दिल को देखें लियोनार्दो विंची की नज़र से

लियोनार्डो डी विंची का एक चित्र इमेज कॉपीरइट SPL

मशहूर चित्रकार लियोनार्दो दा विंची ने जब कुछ ही दिन पहले मर गए सौ साल के एक पुरुष के दिल की चीरफाड़ की तो उन्होंने संभवतः पहली बार कोरोनरी आर्टरी डीज़ीज़ का विवरण दुनिया के सामने पेश किया.

आज उस घटना के क़रीब 500 सालों से ज़्यादा समय बाद पश्चिमी देशों में कोरोनरी आर्टरी डीज़ीज़ से होने वाली मौतें आम बात हैं.

लियोनार्दो विंची एक पेंटर, वास्तुकार (आर्किटेक्ट) और इंजीनियर थे. वो इंसान के शरीर की संरचना को जानने को लेकर उत्सुक रहते थे.

अच्छे दिमाग़ के मालिक

कैंब्रिज के पापवर्थ अस्पताल के कार्डियोथोएरिक सर्जन (दिल और फेफड़े का सर्जन) फ़्रांसिस वेल्स ने विंडसर के रॉयल कलेक्शन में रखे लियोनार्दो विंची के संरचनात्मक चित्रों का सात साल तक अध्ययन किया है.

इमेज कॉपीरइट Other

फ़्रांसिस वेल्स की किताब 'दी हर्ट ऑफ़ लियोनार्दो' में इस कलाकार के चित्रों और शरीर के अंगों पर उनकी टिप्पणियों पर विस्तृत जानकारी दी गई है.

वैसे तो लियोनार्दो को शरीर के सभी अंगों में रुचि थी लेकिन 1507 के बाद उनका झुकाव हृदय के अध्ययन की तरफ़ बढ़ गया. तब वो 50 साल के हो चुके थे.

उन्होंने हृदय के वाल्व के कामकाज और उससे होने वाले ख़ून के संचार का बहुत बारीकी से अध्ययन किया.

वे कहते हैं कि लियोनार्दो के कई निष्कर्ष, जैसे आर्टिरियल वाल्व के खुलने और बंद होने और उनसे होकर हृदय में ख़ून के जाने का विवरण आज भी सही हैं.

हृदय रोग

लियोनार्दो के बहुत से चित्र बैल और सूअर के दिल के अध्ययन पर आधारित हैं.

इमेज कॉपीरइट SPL

इंसानी अंगों की संरचना का अध्ययन उन्होंने बहुत बाद में शुरू किया. इंसानी अंगों की चीर-फाड़ वो सर्दियों में शरीर के ख़राब होने से पहले करते थे.

आज जिस तरह हृदय का विच्छेदन किया जाता, वह यह दिखाता है कि कई मायने में लियोनार्दो इसके कामकाज को लेकर सही थे.

उन्होंने पहले ही बता दिया था कि हृदय एक मांसपेशी है और यह ख़ून को गर्म नहीं करता है.

1452 में इटली में जन्मे लियोनार्दो के जीवन में उनके चित्र प्रकाशित नहीं हो पाए थे. उनकी टिप्पणियां भी 18वीं सदी के अंत तक नहीं खोजी गई थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार