'रेप ड्रग' से चेताने वाले नेल पॉलिश पर हंगामा

  • 31 अगस्त 2014
नेल पॉलिश

अमरीका के उत्तरी कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी के चार छात्र मिलकर एक ऐसी नेल पॉलिश विकसित कर रहे हैं जो 'रेप ड्रग' के आसपास आने से रंग बदल लेती है.

छात्रों की कंपनी अंडरकवर कलर्स ने अपने फ़ेसबुक पेज पर कहा है, ''हमारी नेल पॉलिश से कोई भी महिला अपनी सुरक्षा सुनिश्चित कर सकती है, वो चुपचाप पेय में अंगुली डालेगी और अगर उसमें किसी तरह का नशीला पदार्थ मिला होगा तो नेल पॉलिश का रंग बद जाएगा.''

वेबसाइट गिज़्मोडो पर एडम क्लार्क्स ने लिखा है, ''पेय पदार्थों को जांचने के लिए पहले से भारी भरकम उपकरण उपलब्ध हैं, लेकिन इन्हें बार आदि जगहों पर ले जाना आसान नहीं है.''

हालांकि, शुरुआती तारीफ़ के बाद अब नेल पॉलिश को लेकर किए जा रहे प्रयास की आलोचना होने लगी है.

गार्डियन में जेसिका वैलेंटी लिखती हैं, ''यौन हिंसा पर अंकुश लगाने की युवाओं की सोच क़ाबिले तारीफ़ है, लेकिन महिलाओं पर यह ज़िम्मेदारी डालना मूल मुद्दे से भटकना है. हमें रेप को रोकने की कोशिश करनी चाहिए.''

नेल पॉलिश या यौन शिक्षा

इमेज कॉपीरइट AFP

उनका कहना है कि इस तरह के उपायों को अपनाने का दूरगामी नतीजा ये भी हो सकता है कि वो महिलाएं जो इसका इस्तेमाल नहीं करेंगी उनको लेकर लोग कहेंगे कि उन्होंने सावधानी नहीं बरती.

थिंक प्रोग्रेस के लिए तारा कल्प-रेसलर लिखती हैं, ''एंटी रेप नेल पॉलिश उन उपायों की बढ़ती जा रही फेहरिस्त को और लंबा करती है, जो महिलाओं को यौन हिंसा से बचाने के नाम पर सामने लाई गई हैं.''

इसके अलावा, अधिकांश लैंगिक उत्पीड़न में रेग ड्रग्स का इस्तेमाल उतना नहीं किया जाता है जितना की शराब का.

जीज़ेबल पर एरिना ग्लोरिया रेयान ने लिखा है, ''रंग बदलने जैसे उपायों की बजाय, यौन हिंसा के प्रति शिक्षित करना ज़्यादा कारगर साबित हो सकता है.''

वो लिखती हैं, ''मर्दों को सिखाओ कि बेबस कर महिलाओं के साथ संबंध बनाना बलात्कार है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार