हाइड्रोजन से चलेगी, किराये पर मिलेगी!

हाइड्रोजन ईंधन से चलने वाली रिवरसिंपल कार इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि हाइड्रोजन ईंधन से चलने वाली इस इलेक्ट्रिक कार पर अभी वेल्स में काम चल ही रहा है लेकिन यह किसी कार्बन डाइऑक्साइड (C02) फ्री व्हीकल से कई मामलों में ज्यादा लगती है.

रिवरसिम्पल के फ़ाउंडर और पेशे से इंजीनियर ह्यूगो स्पॉवर्स और उनकी टीम कार बनाने और उन्हें बेचने के पूरे बिजनेस मॉडल को बदल देने के लिए लगातार कोशिश कर रही है.

ह्यूगो स्पॉवर्स कहते हैं, "आमूलचूल बदलाव करने वाली तकनीक तभी कारगर हो सकती है जब यह एक नए बिज़नेस मॉडल के साथ आए."

कारोबारी होने के अलावा ह्यूगो मोटरस्पोर्ट में खासी दिलचस्पी रखते हैं और पहले से चली आ रही चीजों को चुनौती देने के लिहाज से वे नए नहीं हैं.

कम्प्रेस्ड हाइड्रोजन

इमेज कॉपीरइट British Broadcasting Corporation

वे हाइड्रोजन ईंधन से चलने वाली 'लाइफ़कार' परियोजना पर काम चुके हैं. लेकिन स्पॉवर्स के काम को उनके प्रोटोटाइप के ज़रिए और बेहतर तरीके से समझा जा सकता है.

ह्यूगो बताते हैं, "पिछले सौ सालों में कम्बस्टन इंजन के लिए डिजाइन की गई गाड़ियों में हाइड्रोजन ईंधन का सिस्टम फिट किए जाने की कोशिश की जाती रही लेकिन हमने हाइड्रोज़न फ़्यूल को ध्यान में रखते हुए ये कार डिजाइन की है."

इस तकनीक में गाड़ी के पिछले हिस्से में रखे गए एक टैंक से कम्प्रेस्ड हाइड्रोजन कार के अगले भाग में रखे फ्यूल सेल तक जाती है. यह फ्यूल सेल कम्प्रेस्ड हाइड्रोजन को बिजली में बदल देती है.

इस बिजली से कार के चारों मोटर चलते हैं. ये मोटर कार के चारों पहियों के साथ जुड़े हुए हैं. इस तकनीक की वजह से रिवरसिंपल को गाड़ी में गियरबॉक्स लगाने की झंझट से छुटकारा मिल गया.

अंतिम डिजाइन

इमेज कॉपीरइट British Broadcasting Corporation

अब ड्राइवर डैशबोर्ड पर लगे बटंस को दबाकर गाड़ी को आगे, पीछे या न्यूट्रल में कर सकता है.

ह्यूगो कहते हैं, "इस गाड़ी में चक्कों को छोड़कर घूमने वाली और कोई चीज नहीं है. इस गाड़ी में धातु से धातु के संपर्क वाली कोई बात नहीं है. किसी तरह के लुब्रीकेंट की जरूरत भी नहीं है."

ह्यूगो स्पॉवर्स की ये कार ब्रेक लगाने पर भी बिजली पैदा कर सकती है जिसे स्टोर करके रखा जाना है. हालांकि इस कार का अंतिम डिजाइन अभी तय नहीं है लेकिन इसके प्रोटोटाइप का वजन 520 किलो है.

स्पॉवर्स का दावा है कि 12 फुट लंबी ये कार ज़ीरो से 50 किलोमीटर प्रति मील की रफ्तार पकड़ने में आठ सेकेंड का वक्त लेगी और फुल टैंक होने पर यह 300 किलोमीटर का सफर तय करेगी.

नियमित मेनटेनेंस

इमेज कॉपीरइट British Broadcasting Corporation

रिवरसिंपल के बारे में कई और बातें हैं जो उसे अलग बनाती हैं. मशहूर म्यूज़िक बैंड बीटल्स का कहना था कि पैसे से प्यार नहीं खरीदा जा सकता है ठीक उसी तरह पैसे से रिवरसिंपल भी नहीं खरीदा जा सकता है.

इसकी जगह पर उपभोक्ताओं से एक मासिक फी ली जाएगी जो कि कंपनी को दिए जाने वाले किराए की तरह होगा. इसमें कार का बीमा, फ़्यूल और नियमित मेंटेनेंस शामिल हैं.

हालांकि इस तरह के बिजनेस मॉडल पर पहले भी काम किया जा चुका है. हुंडई ने टक्सन इलेक्ट्रिक एसयूवी को अमरीका में तीन साल के लिए 499 डॉलर प्रति महीने के किराये पर देने की पेशकश की थी जिसमें फ़्यूल और रखरखाव दोनों ही शामिल थे.

बिज़नेस मॉडल

इमेज कॉपीरइट AFP

अनुमान है कि रिवरसिंपल का किराया 720 डॉलर प्रति महीने के करीब तय किया जा सकता है लेकिन स्पॉवर्स को लगता है कि उपभोक्ताओं के रुझान के मुताबिक यह बदल सकता है और इससे वैकल्पिक ईंधन के लिए बुनियादी ढांचा तैयार करने में सहूलियत हो सकती है.

स्पावर्स कहते हैं, "हमने महज एक कार नहीं बनाई बल्कि एक समाधान तैयार किया है. यह एक ऐसा बिज़नेस मॉडल है जो 21वीं सदी की जरूरतों के मुताबिक फिट बैठता है."

यह कार 2017 के मध्य तक सड़कों पर उतारी जा सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार