संकट में होंगी कारें, तो फोन लगाएंगी!

यूरोपीय ई कॉल कार सिस्टम इमेज कॉपीरइट

यूरोपीय संसद में हुई एक महत्वपूर्ण सहमति के तहत मार्च 2018 तक सभी नई कारों में आपातकालीन कॉल सिस्टम 'ई कॉल' लगाने का फ़ैसला किया गया है.

इस प्रणाली के तहत किसी तरह की दुर्घटना होने पर कार में लगा ई काल सिस्टम इमरजेंसी सेवाओं को अपने आप सूचित करेगा.

आपातकालीन कॉल कार सिस्टम से जुड़े शोध के मुताबिक कारों में इस अनिवार्य सिस्टम को लगाने के बाद किसी भी दुर्घटना में बचाव कार्य में पहले से आधा समय लगेगा, खासकर ग्रामीण इलाकों में.

इमेज कॉपीरइट AP

अब सवाल वाजिब है कि इतनी उपयोगी सुविधा को कारों में लगाने में इतनी देर क्यों की जा रही है?

दरअसल इस प्रस्ताव को यूरोपीय संसद में साल 2012 में ही पेश किया गया था लेकिन गोपनीयता संबंधी चिंताओं सहित कई दूसरे कारणों से इसे लागू करने देर होती चली जा रही है.

बचा हुआ ईंधन

आपातकालीन सेवा से जुड़े नए सौदे के अनुसार कारों की ई कॉल सिस्टम की इमरजेंसी सेवा कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां ही मुहैया कराएगी.

इन महत्वपूर्ण जानकारियों में कार की किस्म, बचा हुआ ईंधन, दुर्घटना का वक्त और लोकेशन आदि बताना शामिल होगा.

इमेज कॉपीरइट FUTURE TRANSPORT CATAPULT
Image caption ड्राइवर रहित कारों को अगले साल तक सड़कों पर उतारने की योजना है.

यूरोपीय ट्रांसपोर्ट सेफ्टी काउंसिल के कार्यकारी निदेशक एनटोनियो एवेनोसो ने इस पहल का स्वागत करते हुए कहा, "दुर्घटनास्थल पर होने वाली मौतों को रोकने में इमरजेंसी सेवाओं की बेहद महत्वपूर्ण भूमिका होती है. ई कॉल तकनीक से कई जीवन बचाए जा सकते हैं."

एनटोनियो बताते हैं, "हालांकि ये दुखद है कि नए कानून में कार के अलावा दूसरी गाड़ियों को शामिल नहीं किया गया है. इसके अलावा इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए अभी हमें लंबा इंतजार करना होगा."

यूरोप के कई शहरों में ई कॉल सिस्टम का सफल परीक्षण किया जा चुका है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार