कौन है धरती की 'जुड़वां' बहन?

एलियन अर्थ, 'केपलर 438b', अमरीकी खगोलशास्त्रियों की खोज इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अमरीकी खगोलशास्त्रियों ने अंतरिक्ष की अतल गहराइयों में से आठ नए ऐसे ग्रह खोजे हैं, जो पृथ्वी से मिलते-जुलते हैं.

खगोलविदों के मुताबिक़ इन आठ में से एक 'पृथ्वी से सबसे ज़्यादा मिलता-जुलता' ग्रह है.

सभी ग्रहों का पता लगाया है नासा की केपलर अंतरिक्ष दूरबीन ने.

अमरीकन एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी की बैठक में ये दिलचस्प जानकारियां सामने आईं.

'जुड़वां' धरती

खगोल वैज्ञानिकों के मुताबिक़ आठ में से केवल तीन ग्रह अपने परिचारक तारे के आवासीय क्षेत्र के भीतर हैं और इनमें से केवल एक हमारी पृथ्वी की तरह चट्टानी और थोड़ा गर्म है.

मंगल पर बसने लिए एक लाख आवेदन

पृथ्वी से सबसे ज़्यादा मिलते-जुलते इस 'ग्रह' को वैज्ञानिक भाषा में 'केपलर 438b' नाम दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट SPL

इसके पहले 'केपलर 186f' की खोज हुई थी, जिसे पृथ्वी जैसा ग्रह और पृथ्वी का जुड़वां ग्रह कहा गया था.

अब केपलर 438b को पृथ्वी के ज़्यादा क़रीब माना जा रहा है.

जो पृथ्वी से आकार में 12 फ़ीसदी अधिक बड़ा है और केपलर186f से लंबा-चौड़ा है.

क्या अंतरिक्ष से धरती पर आया सोना?

केपलर 438b का तापमान हमारी धरती के तापमान से ज़्यादा मिलता है.

अधिक लाल

संभवतः हमारी धरती सूरज से जितनी ऊर्जा लेती है उसकी तुलना में केपलर 438b अपने तारे से 40 फ़ीसदी अधिक ऊर्जा लेता है.

इमेज कॉपीरइट NASA

तो कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के सेती (सर्च फॉर एक्स्ट्राटेरेस्ट्रियल इंटेलीजेंस) के डॉक्टर डोग काल्डवेल के शब्दों में उसकी सतह पृथ्वी से ज़्यादा गरम तो होगी पर उस पर खड़ा हुआ जा सकता है.

शनि से कैसी दिखती है पृथ्वी?

साथ ही कोल्डवेल कहते हैं कि ये ग्रह ज़्यादा ठंडे तारे (रेड ड्वार्फ़) के चारों ओर चक्कर काटता है इसलिए हमारी धरती से अधिक लाल दिखाई देगा.

जीवन की संभावना

खगोलविदों के अनुसार इन ग्रहों पर पानी का समंदर होने की संभावना है.

समंदर के अलावा ऐसी कई स्थितियां भी हो सकती हैं जो वहां जीवन के पनपने में सहायक हों.

Image caption केपलर अंतरिक्ष टेलीस्कोप मिशन धरती जैसे ग्रहों की तलाश से जुड़ा रोचक अभियान है.

करनी है अंतरिक्ष की सैर? अपनाइए ये पांच नुस्खें

वैज्ञानिकों के अनुसार कुछ ग्रह पृथ्वी से काफ़ी बड़े हैं और वहां तापमान न तो अधिक है और न बहुत कम.

फिलहाल पक्के तौर पर किसी ग्रह के बारे में यह नहीं कहा जा सकता कि वहां जीवन संभव है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार