पृथ्वी के वायुमंडल में हुआ नष्ट रूसी यान

इमेज कॉपीरइट epa

रूसी अंतरिक्ष एजेंसी का कहना है कि उसका बेकाबू हुआ अंतरिक्ष यान एम-27एम पृथ्वी के वातावरण में दोबारा प्रवेश करने के बाद जल गया है.

एजेंसी का कहना है कि प्रशांत क्षेत्र के ऊपर इस यान ने दोबारा पृथ्वी के वातावरण में प्रवेश से किया है और इसके कुछ ही हिस्से समुद्र तल पहुंच पाएंगे.

ये मानवरहित कार्गोशिप 28 अप्रैल को कजाख़स्तान से छोड़ा गया था लेकिन कुछ ही देर बाद ये नियंत्रण से बाहर हो गया.

सप्लाई

इमेज कॉपीरइट NASA
Image caption इस यान के अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर आपूर्ति करनी थी.

ये अंतरिक्ष यान एम-27एम तीन टन से ज्यादा सप्लाई लेकर अतंरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन जा रहा था.

रूस की अंतरिक्ष एजेंसी रोसकोसमोस का कहना था, ''एम-27एम यान मॉस्को के समय अनुसार सवेरे 5.04 बजे आठ मई 2015 को गिरना शुुरू हुआ. प्रशांत महासागर के मध्य भाग के ऊपर उसने वायुमंडल में प्रवेश किया.''

इस अंतरिक्ष यान को धरती से करीब 420 किमी दूर परिक्रमा कर रहे अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर कार्यरत छह लोगों के एक दल को खाद्य सामग्री, ईंधन, ऑक्सीजन और कपड़ों की आपूर्ति करनी थी.

लेकिन इस यान से संपर्क टूट जाने के कारण यह नियंत्रण से बाहर हो गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)