'गर्भ में पल रहे लड़के के लिए हानिकारक पेरासिटामोल'

इमेज कॉपीरइट AFP

पेरासिटामोल दवा का लंबे समय तक इस्तेमाल गर्भवती महिला के गर्भ में पल रहे लड़के के विकास को प्रभावित कर सकता है.

यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्रा के वैज्ञानिको का कहना है कि दर्द को कम करने वाली ये दवा अगर सात दिनों तक गर्भवती महिला को दी जाती है तो इससे टेस्टोस्टेरोन के विकास पर प्रभाव पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट PA

टेस्टोस्टेरोन हार्मोन पुरुषों के जननांग के विकास के लिए अहम माना जाता है.

सलाह

नेशनल हेल्थ सर्विस के दिशानिर्देशों के मुताबिक गर्भवती महिला को ज़रुरत होने पर ही पेरासिटामोल दवा लेनी चाहिए और कोशिश करनी चाहिए वे उसे ज्यादा न लें.

इमेज कॉपीरइट SPL

इन दिशानिर्देशों में ये भी कहा गया है कि अगर किसी गर्भवती महिला को इलाज के लिए लंबे समय के लिए इस दवा को लेना पड़ता है तो वो चिकित्सिय सलाह जरुर ले.

ब्रिटेन की मेडिसन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट रेग्यूलेटरी एजेंसी का कहना है कि पेरासिटामोल दर्द को कम करने वाली उन कुछ दवाओं में से एक है जिसे आमतौर पर गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित माना जाता है.

लेकिन इससे पहले किए गए शोध ये सुझाव देते है कि पेरासिटामोल का सेवन गर्भ में पल रहे शिशु के विकास को प्रभावित कर सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)