प्राचीन इंसान की एक नई प्रजाति की खोज

इमेज कॉपीरइट LAURA DEMPSEY

वैज्ञानिकों की रिपोर्ट के मुताबिक़ इथियोपिया के अफ़ार क्षेत्र में प्राचीन इंसान की एक नई प्रजाति का पता चला है.

खोजकर्ताओं को 33 से 35 लाख वर्ष पुरानी जबड़े की हड्डियां और दांत मिले हैं.

इसका मतलब है कि यह नया होमोनिन उस वक़्त का है जब दूसरी प्राचीन इंसानी प्रजातियां जिंदा थीं.

इमेज कॉपीरइट

होमिनिन मानव की तरह ही खड़े होकर चलने वाली जाति थी.

इससे यह भी पता चलता है कि इंसान की फैमिली ट्री हमारी सोच से कहीं ज्यादा जटिल है.

यह अध्ययन नेचर जर्नल में छपा है.

इस नई प्रजाति का नाम ऑस्ट्रेलोपिथिकस डेयीरेमेडा है जिसका मतलब अफ़ार के लोगों की भाषा में 'नज़दीकी संबंधी' है.

इमेज कॉपीरइट

जो प्राचीन अवशेष पाए गए हैं वे इस प्रजाति के चार सदस्यों के हैं.

इनमें बंदर और मानव जैसी विशेषताएं रही होंगी.

निकटवर्ती पूर्वज

इमेज कॉपीरइट SPL

इन अवशेषों की जो उम्र है उससे लगता है कि ये शुरुआती इंसानों की उन चार प्रजातियों के समकालिन थे जो एक ही काल के थे.

इनमें सबसे प्रसिद्ध ऑस्ट्रेलोपिथिकस अफ़ारेंसिस है. इसे लूसी के नाम से भी जाना जाता है.

पहले लूसी को इंसानों का सबसे निकटवर्ती पूर्वज माना जाता था. इसका जीवन काल 29 लाख से 38 लाख वर्ष के बीच था.

लेकिन केन्या में 2001 में केन्यानथ्रॉपस प्लैटीऑप्स, चाड में ऑस्ट्रेलोपिथिकस बहरेलग़ैजैली और अब ऑस्ट्रेलोपिथिकस डेयीरेमेडा की खोज से पता चलता है कि कई प्रजातियां एक साथ अस्तित्व में थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार