वैक्सीन करेगा मेनिनजाइटिस बी से मुकाबला

वैक्सीनेशन बच्चा इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ब्रितानी सरकार ने ऐलान किया है कि इंग्लैंड और स्कॉटलैंड में सितंबर से सभी नवजात बच्चों को मेनिनजाइटिस बी से बचाने के लिए वैक्सीन दिया जाएगा.

यह वैक्सीन दो महीने, चार महीने और 12 महीने के बच्चों को दिया जाएगा. लागत को लेकर विवाद के चलते इस योजना को लागू करने में देर हुई है.

इस घातक बीमारी के ख़िलाफ़ यह दुनिया का पहला टीकाकरण कार्यक्रम है जिसे सरकारी और सार्वजनिक खाते से पैसा दिया जा रहा है.

मेनिनजाइटिस चैरिटीज़ ने इसे सीधे 'जान बचाने वाला' क़दम करार दिया है.

अगस्त से एक अन्य मेनिनजाइटिस वैक्सीन- मेन एसीडब्ल्यूवाई- विश्वविद्यालय की पढ़ाई शुरू करने वाले 17 और 18 साल के बच्चों को दिया जाएगा.

'छिपी हुई बीमारी'

इमेज कॉपीरइट AFP

स्कॉटिश सरकार और स्वास्थ्य विभाग के अनुसार यह वैक्सीन नवजातों को दिए जाने वाले अन्य वैक्सीन के साथ ही दिया जाएगा.

परीक्षणों के अनुसार मेनिनजाइटिस बी का नया वैक्सीन, बेक्सेरो, ब्रिटेन में मौजूद मेनिन्गोकॉक्कल ग्रुप-बी बैक्टीरिया से 90% तक बचाता है.

मेनिनजाइटिस बी बैक्टीरिया संक्रमण ख़ासतौर पर एक साल से कम उम्र के बच्चों को शिकार बनाता है और पांच साल से कम उम्र के बच्चों में आम है.

मेनिनजाइटिस डॉट ओआरजी वेबसाइट के अनुसार विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मेनिनजाइटिस को 'छिपी हुई बीमारी' कहा है. अक्सर इसकी पहचान नहीं हो जाती या फिर इससे मलेरिया जैसी बीमारियों का भ्रम हो जाता है.

अनुमान है कि दुनिया भर में शिशु मृत्यु के 5% मामलों में वजह बैक्टीरियल मेनिनजाइटिस ही होता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार