सफल रहा नासा का 'मिशन प्लूटो'

इमेज कॉपीरइट Credit NASAAPLSwRI

अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के अनुसार प्लूटो के बेहद क़रीब से गुजर रहे उसके अंतरिक्ष यान न्यू होराइज़ंस का सफ़र सफल रहा है.

प्लूटो का ऐतिहासिक चक्कर लगाने के बाद न्यू होराइज़ंस ने अमरीका स्थित मैरीलैंड मिशन ऑपरेशन सेंटर को सिग्नल भेजे हैं.

प्लूटो से 4.7 अरब किलोमीटर की दूरी तय करके नासा के संचार तंत्र तक सिग्नल पहुँचने में क़रीब 4 घंटे 25 मिनट लगे.

सिग्नल मिलने के बाद वैज्ञानिकों के दल में ख़ुशी की लहर दौड़ गई.

नासा को उम्मीद है कि अगले कुछ घंंटों में अंतरिक्ष यान और भी तस्वीरें और डेटा भेजेगा जिससे प्लूटो के बारे में नई जानकारियाँ मिल सकेंगी.

वैज्ञानिक स्टीफ़न हॉकिंग और अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अभियान की सफलता पर वैज्ञानिकों को बधाई दी.

ओबामा ने ट्वीट किया, "नासा न्यू होराइज़ंस को तीन अरब मील की ये यात्रा पूरी करने पर बधाई."

नई जानकारी

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इससे पहले मंगलवार को अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का अंतरिक्ष यान नौ साल के सफ़र के बाद प्लूटो के नजदीक पहुंचा था.

यान से मिले संकेतों के अनुसार प्लूटो के क़रीब से गुजरते समय उसकी गति 14 किलोमीटर प्रति सेकेंड थी.

न्यू होराइज़ंस से मिली नई जानकारी के अनुसार प्लूटो का व्यास 2,370 किलोमीटर है, जबकि पहले इसका व्यास 2,300 किलोमीटर माना जाता था.

इमेज कॉपीरइट NASA BBC

इससे इस बात की पुष्टि हुई है कि प्लूटो सौर मंडल की बाहरी सीमा में अब तक का सबसे बड़ा ग्रह है.

इस अभियान के साथ ही अब सोलर सिस्टम के सभी ग्रहों पर एक-एक बार यान पहुँच चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार