एंड्रॉयड मार्शमैलौ लाएगा कई बदलाव

गूगल नेक्सस (फ़ाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट GOOGLE

इस महीने के अंत में गूगल का नेक्सस फ़ोन बाज़ार में एंड्रॉयड मार्शमैलौ ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ बाजार में आएगा.

नए ऑपरेटिंग सिस्टम में कई बदलाव किए गए हैं. आइए आपको बताते हैं कि इस नए ऑपरेटिंग सिस्टम में आपके मतलब की चीज़ क्या है.

सिक्योरिटी के लिहाज़ से अब किसी ऐप को लोकेशन से जुडी जानकारी लेनी होगी तो उसे आपसे इजाज़त लेनी होगी.

कई एक्सपर्ट का मानना है कि सुरक्षा के लिहाज़ से ये आपके लिए अच्छा है क्योंकि एक बार परमिशन लेकर आपके बारे में हमेशा जानकारी लेते रहना सही नहीं है.

एंड्रॉयड मार्शमैलौ पर चलने वाले नेक्सस 5X और नेक्सस 6P पर अब फिंगर प्रिंट सेंसर्स हैं. चूंकि फ़ोन में ये सुविधा है अब जल्दी ही ऐप बनाने वाली कंपनियां इससे जुडी ऐप की तैयारी में लग गई होंगी.

कई बैंकों के साथ भी एंड्रॉयड ने साझीदारी की है ताकि गूगल-पे पर भी नई सुविधाएं लोगों तक पहुंचाई जा सकें.

लंबी बैटरी लाइफ़

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

डोज़ नाम का एक फ़ीचर एंड्रॉयड मार्शमैलौ पर लाया गया है जिससे स्मार्टफोन की बैटरी-लाइफ बढ़ाई जा सके. डोज़ आपके दिन भर के फ़ोन के इस्तेमाल को समझता है और उसके हिसाब से बैटरी की खपत को कम या ज़्यादा कर देता है.

दिन के ऐसे समय में जब आप फ़ोन कम इस्तेमाल करते हैं तो डोज़ आपकी बैटरी को कम से कम इस्तेमाल होने देता है.

जब फ़ोन इस्तेमाल नहीं हो रहा है तो जिन ऐप्स की ज़रुरत नहीं है उसको डोज़ बंद कर देगा. गूगल का दावा है कि ऐसा करने से आपके स्मार्टफोन में स्टैंडबाई टाइम दोगुना हो जाता है.

नाउ ऑन टैप की मदद से आपको किसी चीज़ के बारे में जो भी जानकारी चाहिए, वो आपको मिल सकती है. जब भी किसी ऐप को लांच करके होम बटन को थोड़ी देर तक दबाकर रखते हैं तो आपको कई चीज़ों के बारे में जानकारी मिल सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार