ऐसे बचें डिजिटल आइडेंटिटी की चोरी से

ऑनलाइन आइडेन्टिटी इमेज कॉपीरइट PA

ऑनलाइन दुनिया में आपके आइडेंटिटी की चोरी कभी भी हो सकती है.

अगर आप अपने मोबाइल पर काफ़ी ट्रांसैक्शन करते हैं तो आप अपने बारे में जानकारी कई वेबसाइट पर छोड़ देते होंगे.

ऐसे में चोर-उचक्कों के लिए आपके बारे में कुछ जानकारी इकट्ठा करना बहुत आसान हो जाता है.

एक बार आपके बारे में थोड़ी जानकारी इकट्ठा हो जाती है उसके बाद बस उन्हें मौके की तलाश होती है. इसलिए ये समझना ज़रूरी है कि कैसे आपकी डिजिटल आइडेंटिटी की सुरक्षा की जा सकती है.

किस-किस तरह से आपकी डिजिटल आइडेंटिटी की चोरी की जा सकती है और आपके क्रेडिट कार्ड या बैंक के पैसे को ख़तरा हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अगर आपके बैंक स्टेटमेंट में कुछ ऐसे चार्ज हैं जो आपको समझ में नहीं आ रहा है तो आपको तुरंत चौकन्ना हो जाना चाहिए. हो सकता है कि ऐसे चार्ज दो चार सौ रुपये के ही हों पर चूंकि ये रकम बड़ी नहीं है इसलिए कहीं ऐसा नहीं हो कि आप उसपर नज़र नहीं डालें.

ऐसा हो सकता है कि आइडेंटिटी की चोरी करने वाले पहले एक दो ऐसे ट्रांसैक्शन करके ये देखते हैं कि जिसके नाम पर पर अकाउंट है उसकी नज़र उसपर पड़ती है कि नहीं. कहीं ऐसा न हो कि देर हो जाए.

आपकी आइडेंटिटी की चोरी करने वाले भी आपके सोशल मीडिया पर पोस्ट को प्रभावित कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर अगर आपके अचानक अपने टाइमलाइन पर कुछ अजीब हरकत दिखने लगे तो सावधान होने का समय है.

उचक्कों के लिए सोशल मीडिया पर आपकी आइडेंटिटी की चोरी करना एक परीक्षण की तरह है. अगर वो सफल हो गए तो फिर वो आपको काफ़ी नुकसान पहुंचा सकते हैं.

अगर आपके क्रेडिट कार्ड के महीने का बिल आप तक नहीं पहुंचता है तो आपके लिए वो ख़तरे की घंटी हो सकती है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ऐसे स्टेटमेंट में आपके बारे में बेशक़ीमती जानकारी होती है. कुछ लोगों की उसपर भी नज़र हो सकती है.

अगर किसी भी जगह आपके क्रेडिट कार्ड को मशीन मानने से इनकार कर दे तो वो भी आपके लिए ऐसे ही ख़तरे की घंटी हो सकती है. कहीं ऐसा तो नहीं किसी ने आपके क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके कुछ ख़रीदा हो?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार