साल के सबसे चर्चित पांच स्मार्टफ़ोन

आईफ़ोन 6 इमेज कॉपीरइट AP

वह स्मार्टफोन ही कैसा जो आपके मन को भा न जाए. हर साल की तरह एपल ने अपने दीवानों के लिए नया आईफ़ोन पेश किया पर उसके लिए पहले की तरह दीवानगी नहीं दिखी.

अगर किसी स्मार्टफ़ोन ब्रांड ने इस साल ग्राहकों को मोहा, तो वह था वन प्लस.

वन प्लस की खूबी ये है कि उसमें फ़ीचर एक से बढ़कर एक हैं जो सभी बड़े स्मार्टफ़ोन ब्रांड को टक्कर दे सकते हैं. लेकिन क़ीमत में वह दूसरे स्मार्टफ़ोन के मुक़ाबले बहुत कम है.

इमेज कॉपीरइट OnePlus

एक बार कंपनी ने फ़ॉर्मूला साध लिया तो ग्राहकों तक नए मॉडल की ख़बर पहुंचने में समय नहीं लगा.

इस साल यह तय हो गया कि सिर्फ़ एक बहुत बढ़िया फ़ीचर देकर कोई कंपनी कुछ ग्राहकों को एक स्मार्टफ़ोन बेच सकती है. लेकिन अगर किसी स्मार्टफ़ोन को लोगों के बीच हिट करना है, तो उसके लिए एक से ज़्यादा फ़ीचर बढ़िया होने चाहिए.

आइए बताते हैं उन स्मार्टफ़ोनों के बारे में, जो ख़बरों में रहे, पसंद किए गए. लेकिन कुछ मायनों में लोग इनसे निराश भी हुए.

इमेज कॉपीरइट Getty

आईफ़ोन के इस साल आए नए मॉडल 6S प्लस ने दुनियाभर में धूम मचाई. उसके A9 चिप की तेज़ी और 14 घंटे के टॉकटाइम वाली बेहतर बैटरी ने लोगों के बीच उसकी पसंद को बरक़रार रखा.

फ़ोटो स्टोर करने की नई तकनीक ने लोगों का मन मोह लिया क्योंकि आईफ़ोन के कैमरे को अब लोग बहुत पसंद करते हैं.

लेकिन शुरुआती उत्साह के बाद कम से कम भारत में आईफ़ोन 6S और 6S प्लस की मांग तेज़ी से घटने लगी. सबसे महंगे मॉडल की क़ीमत 90,000 रुपए से भी ज़्यादा अमीरों की भी जेब पर भारी पड़ रही थी.

ऑनलाइन रिपोर्ट के मुताबिक़ कंपनी को अपने प्रोडक्ट की क़ीमतें कम करनी पड़ीं, जब उन्होंने देखा कि स्मार्टफ़ोन की बिक्री त्योहारों के बाद तेज़ी से घट रही थी.

इमेज कॉपीरइट

सैमसंग के गैलेक्सी नोट 5 को बड़े साइज़ में इस साल सबसे बढ़िया स्मार्टफ़ोन में से एक माना जा सकता है.

कंपनी ने इसमें ऐसा सॉफ़्टवेयर दिया है जिसमें कई ऐसे फ़ीचर हैं, जो आपको दूसरे स्मार्टफ़ोन में नहीं मिलेंगे. इसके एस पेन और उससे स्मार्टफ़ोन इस्तेमाल करने वालों को होने वाली आसानी को लोगों ने बहुत सराहा.

लेकिन एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम पर अपने सॉफ़्टवेयर थोपने के कारण सैमसंग को चीन में ग्राहकों और अदालत का ग़ुस्सा भी झेलना पड़ा. इसके बावजूद लोगों ने माना कि सैमसंग का ये इस साल का सबसे बढ़िया स्मार्टफ़ोन था.

इमेज कॉपीरइट AP

ब्लैकबेरी के पहले एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले स्मार्टफ़ोन प्रीव पर लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रिया रही. इसके साथ ब्लैकबेरी का जाना-माना कीबोर्ड भी है.

एंड्राइड के ऐप और ब्लैकबेरी की सिक्योरिटी और कीबोर्ड का ये बढ़िया मेल है. जो लोग ब्लैकबेरी छोड़कर एंड्राइड स्मार्टफ़ोन इस्तेमाल करने लगे हैं उनके लिए ये अच्छा विकल्प हो सकता है.

लेकिन 50,000 रुपए से ज़्यादा का ये स्मार्टफ़ोन कई लोगों के लिए महंगा हो सकता है क्योंकि उतने पैसे में उन्हें एपल का आईफोन 5S मिल सकता है. और लोगों को लगता है कि एप्पल का फ़ोन ब्लैकबेरी फ़ोन से बेहतर है.

इस साल सबसे ज़्यादा चर्चा में जो स्मार्टफ़ोन रहा, वह था वन प्लस 2. उसे खरीदने वालों को शुरुआत में उसके प्रोसेसर स्नैपड्रैगन को लेकर कुछ परेशानियां झेलनी पड़ीं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

लेकिन एक बार कंपनी ने उसे दूर कर दिया तो फिर लोगों के बीच ये सबसे ज़्यादा पसंद किया जाने वाला स्मार्टफ़ोन बन गया.

सेल्फ़ी पसंद करने वाले इसके 13 मेगापिक्सेल कैमरे के दीवाने रहे. मेटल फ्रेम के बने इस फ़ोन में इतने फ़ीचर मिल रहे थे और वो भी सैमसंग S5 की आधी क़ीमत पर कि कई देशों में इसने लोगों का मन जीत लिया.

अगर सिर्फ़ एक कैमरा फ़ोन का नाम लेना हो जो इस साल अपने फ़ीचर के कारण लोगों में हिट रहा, तो वह LG का G4 होगा.

इमेज कॉपीरइट Twitter

एंड्राइड 5.1 पर चलने वाले इस स्मार्टफ़ोन का 16 मेगापिक्सल कैमरा साढ़े पांच इंच की स्क्रीन के लिए बहुत बढ़िया फीचर था. कई लोगों का तो ये कहना था कि इसका कैमरा सैमसंग के S6 से भी बढ़िया है.

क़रीब 50,000 रुपए का ये फ़ोन सेल्फ़ी चाहने वालों के बीच तो हिट हो गया लेकिन बाक़ी लोगों के बीच ये नहीं सराहा गया. इस्तेमाल करते हुए लोगों को पता चला कि इसकी बैटरी काफ़ी जल्दी ख़त्म हो रही है, जिसने उन्हें बहुत निराश किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार