ड्राइविंग के समय फोन छूने की ज़रूरत ही नहीं

स्मार्टफोन इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

जब भी आप गाड़ी चला रहे हों, तो अपने स्मार्टफोन से हाथ हमेशा दूर रखिए.

अगर आप किसी मैप सर्विस का इस्तेमाल करते हैं तो स्क्रीन पर देख तो सकते हैं लेकिन साथ ही आप आवाज़ सुन कर भी काम चला सकते हैं.

गाड़ी चलाते समय फ़ोन पर बात करना कानूनन जुर्म तो है ही, पर उससे एक्सीडेंट होने का ख़तरा भी बना रहता है.

तो आइए आपको ऐसे कुछ ऐप के बारे में बताते हैं जिनके इस्तेमाल से आपको फ़ोन को छूने की ज़रूरत ही नहीं पड़ेगी.

साथ ही आप अपनी गाड़ी के बारे में भी काफी कुछ जान सकेंगे.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

'रीड इट टू मी' ऐप आपके फ़ोन पर आने वाले सभी मैसेज आपको पढ़ कर सुना सकता है.

सोशल मीडिया पर आने वाले हर नोटिफिकेशन को भी 'रीड इट टू मी' पढ़कर सुना सकता है.

आप ये चुन कर तय कर सकते हैं कि कौन से ऐप के नोटिफिकेशन आपको वो ऐप पढ़ कर सुनाए.

अगर आप कुछ लोगों के मैसेज थोड़ी देर तक नहीं सुनना चाहते हैं, तो उसके लिए भी सेटिंग संभव है.

अगर आपने ये ऐप खरीद लिया है तो अपनी आवाज़ को शब्दों में तब्दील करके मैसेज का जवाब भी दे सकते हैं.

अपने स्मार्टफोन के कैमरे की मदद से आप उसे डैशबोर्ड का कैमरा बना सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

'कैम ऑन रोड' ऐप ऐसा करने में आपकी मदद कर सकता है. आपकी ड्राइविंग की रिकॉर्डिंग भी होती रहेगी और वीडियो फ़ोन के स्टोरेज में रिकॉर्ड भी होता रहेगा.

अगर आपने 'कैम ऑन रोड' की सर्विस के लिए रजिस्टर कर लिया है तो कंपनी आपको करीब तीन घंटे तक की रिकॉर्डिंग की सुविधा मुफ्त देती है जिससे आप करीब 2 गीगाबाइट वीडियो रिकॉर्ड कर सकते हैं.

आजकल की गाड़ी के इंजन में काफी जानकारी होती है. गाड़ी के लिए ऑन बोर्ड डायग्नोस्टिक्स यानि ओबीडी टू एडाप्टर खरीद कर आप गाड़ी के बारे में काफी कुछ जान सकते हैं.

आजकल की सभी गाड़ियों में एक ओबीडी पोर्ट होता है. बस इसे अपने स्मार्टफोन से कनेक्ट कर दीजिये उसके बाद गाड़ी की रफ़्तार, माइलेज और डैशबोर्ड के सभी अलर्ट आपके स्मार्टफोन की स्क्रीन पर आ सकते हैं.

इस ऐप को अगर आपके रूट के बारे में पता है तो आपके पेट्रोल बचाने के लिए रूट का भी सुझाव दे सकता है.

टॉर्क नाम का ऐपआपको गाड़ी के बारे में काफी जानकारी दे सकता है.

अगर आप अपनी गाड़ी की इंजीनियरिंग को बहुत बढ़िया तरीके से नहीं समझते हैं तो ये ओबीडी एडाप्टर आप खुद ही लगाने की कोशिश मत कीजिये.

सर्विस सेंटर या किसी बढ़िया मैकेनिक की मदद लीजिये. एक बार जब आपका ओबीडी पोर्ट स्मार्टफोन के साथ काम करने लगेगा तो आपको गाड़ी चलाने का अलग ही मज़ा आएगा.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार