जब चांद ने निगला सूरज को

पूर्ण सूर्य ग्रहण के दौरान गुजरता एअर एशिया का एक विमान. इमेज कॉपीरइट AP

इंडोनेशिया और भूमध्यसागरीय इलाक़े के लाखों लोगों ने बुधवार को पूर्ण सूर्य ग्रहण देखा. इस दौरान दुनिया के कई हिस्सों में कुछ समय के लिए अंधेरा छा गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय समय के अनुसार कोलकाता में सूर्य ग्रहण सुबह 5.51 बजे शुरू होगा और 6.50 बजे तक रहेगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पूर्ण सूर्य ग्रहण

भारत में इसे आंशिक तौर पर ही देखा जा सकेगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

इस दौरान चांद धीरे-धीरे सूरज के सामने से गुज़रा जिससे दिन के समय कुछ देर के लिए रात का नज़ारा देखने को मिला.

इमेज कॉपीरइट EPA
इमेज कॉपीरइट EPA
इमेज कॉपीरइट Reuters
इमेज कॉपीरइट EPA
इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption क्वालालुंपुर के वलिया मस्जिद के पास से सूर्य ग्हण का नज़ारा.
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption थाइलैंड के बैंकाक में जब चंद्रमा ने सूर्य को ढ़का.

सूर्य ग्रहण के दौरान 150 अरब किलोमीटर दूर चमक रहे सूर्य की किरणें धरती पर इतनी तीव्र होती हैं कि आप इनकी गर्मी महसूस कर सकते हैं. माना जाता है कि इस कारण नंगी आंखों से सूर्य ग्रहण देखने पर आप अपनी आंखों को नुक़सान पहुंचा सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA
इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption म्यांमार में कुछ ऐसा था सूर्य ग्रहण का नज़ारा
इमेज कॉपीरइट Reuters

सूर्य से आनेवाली अल्ट्रा वायलेट विकिरण यानि कि परा बैंगनी किरणें आंखो की संवेदनशील रोशनी की कोशिकाओं को जला सकते हैं, जिससे धुंधला दिखना या ब्लाइंड स्पाट्स बनना जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हालांकि बाइनोकुलर्स, टेलीस्कोप और ख़ास चश्मे का इस्तेमाल कर आप आंखों को बिना किसी तरह का नुक़सान पहुंचाए आसानी से सूर्य ग्रहण देख सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट NASA via AP
Image caption साल 2015 में लगे सूर्य ग्रहण की तस्वीर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार