घर के कंप्यूटर से वायरस कैसे दूर भगाएं

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

स्मार्टफोन, टैबलेट या कंप्यूटर पर वायरस और मालवेयर बनाने वालों की हमेशा नज़र रहती है. कंप्यूटर पर तो वायरस या मैलवेयर का आ जाना बहुत ही आम बात है.

अगर स्क्रीन पर कुछ भी पॉप अप होता है तो X बटन पर क्लिक कीजिए और कैंसिल बटन पर कभी नहीं. कुछ टूलबार में वायरस हो सकते हैं और कभी कभी किसी प्रोग्राम में भी जो आप डाउनलोड करते हैं.

कई बार एक पॉप अप स्क्रीन पर ये लिखा हुआ दिखेगा कि आपके कंप्यूटर को एक वायरस स्कैन की ज़रुरत है. ऐसे विज्ञापनों पर कभी विश्वास न करें और उनपर क्लिक तो कभी न करें. इससे पहले कि आप वायरस को मार भगाएं, ऐसी आदत रखना बहुत ज़रूरी है.

इमेज कॉपीरइट Getty

एक से ज़्यादा एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर कंप्यूटर पर नहीं रखना चाहिए. जब ऐसे प्रोग्राम आपके कंप्यूटर को स्कैन करते हैं तो वो बहुत स्लो हो जाएगा. इससे आपको काम करने में मुश्किल होगी.

अगर आपके कंप्यूटर पर वायरस है तो उसका आप पता कैसे करेंगे और उससे बचने का रास्ता क्या है. आइए इसके तरीके बताते हैं.

आपके कंप्यूटर पर एंटी-वायरस होना बहुत ज़रूरी है. तीन साल के इस्तेमाल के लिए नॉर्टन जैसा एंटी-वायरस करीब 1500 रुपये से कम का मिलता है. अगर आप चाहें तो फ्री एंटी-वायरस भी अपने कंप्यूटर पर डाउनलोड कर सकते हैं.

अगर आपको एंटी-वायरस को लाइव अपडेट करने की इजाज़त है तो ऐसा ज़रूर करना चाहिए.

एंटी-वायरस का बिलकुल अप टू डेट होना ज़रूरी है ताकि सभी तरह के वायरस को हटा सके. कंप्यूटर पर अगर पॉप अप स्क्रीन अक्सर दिखाई देते हैं तो हो सकता है ये किसी वायरस का काम होगा. कंप्यूटर को पूरी तरह से स्कैन कर लीजिए ताकि एंटी-वायरस उसे पूरी तरह हटा दे.

सभी एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर को वायरस या मैलवेयर दिखते ही क्वारंटाइन करने के लिए प्रोग्राम किया जाता है. लेकिन एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर जो भी मैलवेयर ढूंढ निकालता है उसे कंप्यूटर से तुरंत डिलीट कर देना चाहिए. इससे आपका मन शांत रहेगा कि कंप्यूटर में ऐसा कुछ नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार