ऑनलाइन उचक्कों से बचना है तो ये ऐप रखें..

स्मार्टफोन

कई लोगों का मानना है कि एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम पर सिक्योरिटी को नज़रअंदाज़ किया गया है.

अगर ब्राउज़ करते समय आप सावधान नहीं हैं, तो किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम में परेशानी हो सकती है.

एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम पर आपको सिक्योरिटी के अलग-अलग पहलू जैसे फ़ायरवॉल, मैलवेयर, फिशिंग, वायरस स्कैन जैसी ज़रूरतों के लिए ऐप हैं. कुछ ऐसी ऐप के बारे में आपको बताते हैं-

CM सिक्योरिटी एंड्रॉयड के लिए सबसे जाना माना सिक्योरिटी ऐप है और यह एंड्रॉयड मार्शमैलो पर भी काम करता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

स्मार्टफोन और टैबलेट पर काम करने वाले इस ऐप के 50 करोड़ डाउनलोड हो चुके हैं, जो इसकी सफलता बताता है.

स्मार्टफ़ोन से जुड़ी सिक्योरिटी के हर पहलू के लिए इसके ऐप के पास इंतज़ाम है.

नो रूट फ़ायरवॉल आपके स्मार्टफोन के लिए फ़ायरवॉल का काम करता है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

इसकी मदद से आप तय कर सकते हैं कि स्मार्टफ़ोन पर डाउनलोड ऐप इंटरनेट एक्सेस कैसे कर सकते हैं.

जो भी ऐप डेटा का इस्तेमाल कर रहा है या वो ऐप, जिसे आप डेटा का इस्तेमाल कम से कम करने देना चाहते हैं, उस पर आप इस ऐप के ज़रिए नियंत्रण कर सकते हैं.

जब भी कोई ऐप ऑनलाइन होना चाहेगा, आपकी स्क्रीन पर एक नोटिफ़िकेशन आ जाएगा.

मैलवेयर से बचने के लिए भी अगर आप अपने स्मार्टफ़ोन पर मैलवेयरबाइट्स नाम का ऐप डाउनलोड कर लें, तो अनजाने में आपके स्मार्टफोन को होने वाला ख़तरा कम हो जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

स्मार्टफ़ोन से लेकर टैबलेट तक सभी पर ये मैलवेयर, वायरस फैलाने की आशंका वाले और ज़रूरत से ज़्यादा जानकारी लेने वाले ऐप से बचाता है.

हैकर या ऑनलाइन उचक्के आपके बारे में जानकारी स्मार्टफ़ोन से लेने की कोशिश करते हैं. इससे आप ऐसे उचक्कों से बचकर रह सकते हैं.

जब भी आप कोई ऐप डाउनलोड करेंगे तो उसको एक बार ये ऐप चेक ज़रूर करेगा. इसलिए मोबाइल वायरस से बचने के लिए ये बढ़िया ऐप है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार