दुनिया का हर चौथा डायबेटिक भारतीय

इमेज कॉपीरइट thinkstock

दुनिया में 42 करोड़ लोगों को डायबेटीज़ है जिनमें से 10 करोड़ लोग भारत में रहते हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने डायबेटीज़ पर पहली ग्लोबल रिपोर्ट में ये ताज़ा आंकड़े जारी किए हैं. पढ़ें रिपोर्ट की सात प्रमुख बातें.

इमेज कॉपीरइट thinkstock
  1. 1980 में दुनिया में क़रीब 10 करोड़ वयस्क लोगों को डायबेटीज़ थी जो आंकड़ा 2014 में चार गुणा बढ़कर बढ़कर 42 करोड़ हो गया है.
    इमेज कॉपीरइट AFP
  2. पिछले कुछ दशकों में डायबेटिक्स की तादाद विकसित देशों के मुकाबले विकासशील देशों में तेज़ी से बढ़ी है.
    इमेज कॉपीरइट AFP
  3. 1980 में जहां दुनिया की आबादी के 4.7 प्रतिशत लोगों को ये बीमारी थी, 2014 में अब ये दर दोगुनी होकर 8.5 प्रतिशत हो गई है.
    इमेज कॉपीरइट Thinkstock
  4. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक इस चलन से पता चलता है कि दुनियाभर में मोटापे से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ रही है.
  5. दुनिया के आधे डायबेटिक दक्षिण-पूर्व एशिया और पश्चिमी प्रशांत देशों में हैं जिनमें सबसे ज़्यादा तादाद भारत और चीन में है.
    इमेज कॉपीरइट bbc
  6. डायबेटीज़ को बढ़ती उम्र के साथ जोड़ा जाता है. लेकिन सर्वे के मुताबिक अब ये बीमारी 20 साल की उम्र से होने लगी है और इससे होने वाली 43 फीसदी मौतें 70 से कम उम्र के लोगों की होती हैं.
    इमेज कॉपीरइट PATRIK STOLLARZ AFP
  7. दुनियाभर में डायबेटीज़ पर होने वाला सीधा ख़र्च 827 अरब डॉलर से भी ज़्यादा है. इसकी वजह पिछले दशक में बीमारी से पीड़ित लोगों की तेज़ी से बढ़ी संख्या और इलाज के लिए उप्लब्ध तकनीक, दोनों ही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार