पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुज़रा बुध

बुध ग्रह इमेज कॉपीरइट NASA

दुनियाभर के खगोलशास्त्री सोमवार को एक दुर्लभ आकाशीय घटना के गवाह बने जिसमें बुध ग्रह ने सूर्य को पार किया.

21वीं सदी में बुध के परागमन की घटना तीसरी बार हुई है. अगली बार साल 2019 में बुध सूर्य और पृथ्वी के बीच से गुज़रेगा.

बुध के पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुज़रने की घटना को दुनियाभर के खगोल वैज्ञानिकों ने दूरबीन में फिल्टर लगाकर देखा. दरअसल, इसे दूरबीन से देखने पर आंखों को नुक़सान हो सकता था.

बुध के परागमन की सीधे तस्वीरें ऑनलाइन भी देखी गईं.

इमेज कॉपीरइट Science Photo Library

इस दौरान बुध छोटे काले धब्बे की तरह दिखा जो सूरज पर मौजूद दूसरे धब्बों से छोटा लेकिन ज़्यादा काला था. ये धीरे-धीरे सूर्य की विशालकाय परिधि से होकर गुज़रा.

बुध 88 दिन में सूर्य की परिक्रमा पूरी करता है. ये ग्रह अपनी कक्षा में पृथ्वी की तरफ़ झुका हुआ है.

ये वो अंतर है जिसकी वजह से सूर्य, बुध और पृथ्वी का एक लाइन में आना अपेक्षाकृत एक दुर्लभ घटना है.

इमेज कॉपीरइट NASA

पश्चिमी यूरोप, उत्तर-पश्चिमी अफ्रीका और अमरीका के ज़्यादातर हिस्सों से बुध के सूर्य के पार होने की घटना देखी गई.

ऑस्ट्रलेशिया, पूर्वी एशिया के सुदूर पूर्वी हिस्से और अंटार्कटिका में ये घटना नहीं दिखी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार