http://www.bbcchindi.com

बुधवार, 14 जुलाई, 2004 को 12:55 GMT तक के समाचार

एड्स सम्मेलन में अमरीका का विरोध

विरोध करने वालों ने बैंकॉक में हो रहे अंतरराष्ट्रीय एड्स सम्मेलन में अमरीकी दल के प्रमुख को भाषण भी नहीं देने दिया.

अमरीकी प्रमुख रैंडल टोबियस जब भाषण देने खड़े हुए तो विरोध प्रदर्शन करने वालों की वजह से उन्हें कुछ मिनट तक चुप रहना पड़ा.

एड्स कार्यकर्ता जब नारे लगा कर उन्हें भाषण देने से रोक रहे थे तब अमरीका के राजदूत रैंडल टोबियास चुपचाप जड़वत बैठे रहे.

इस सम्मेलन के दौरान अमरीका को सभी तरफ़ से आलोचना का सामना करना पडा है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव कोफ़ी अन्नान ने अमरीका पर आरोप लगाया कि एड्स के खिलाफ़ लड़ाई में अमरीका ने पर्याप्त नेतृत्व नहीं दिया.

कार्यकर्ताओं की शिकायत है कि अमरीका ने एड्स, टीबी और मलेरिया की बीमारियों को नियंत्रण में लाने के लिए विश्व कोष में पर्याप्त योगदान नहीं दिया.

वहीं अमरीकी सरकार पर यह आरोप भी लगाए जा रहे हैं कि वह ऐसे गुटों को आर्थिक मदद दे रहा है जो एड्स से बचने के लिए कॉन्डोम के इस्तेमाल के बजाय संयम की सलाह का प्रचार करते हैं.

मगर जब अमरीकी राजदूत टोबियस को बोलने का मौका मिला तो उन्होंने एड्स के मामले पर अमरीकी सरकार का पक्ष रखने की कोशिश की.

टोबियस ने कहा, "जितने स्पष्ट तरीके से संभव हो मैं कहना चाहूँगा कि असली दुश्मन एचआईवी-एड्स है, उससे जुड़ा कलंक और उससे निपटने में ढिलाई भी हमारे दुश्मन हैं. हमें अपनी क्षमता और संसाधनों का प्रयोग एक दूसरे के ख़िलाफ़ नहीं बल्कि इस चुनौती से लड़ने में इस्तेमाल करनी चाहिए."

उन्होंने यह भी कहा कि एड्स से निपटना का कोई एक तरीका नहीं है और सभी को इसकी पेचीदगी को समझना चाहिए.