दाना मांझी को बहरीन से आई मदद

इमेज कॉपीरइट OTV
Image caption दाना मांझी

अपनी पत्नी का शव कंधे पर उठा कर 12 किलोमीटर पैदल चलने वाले ओड़िशा के आदिवासी दाना मांझी को बहरीन से आर्थिक मदद मिली है.

बहरीन के प्रधानमंत्री ख़लीफ़ा बिन सलमान अल-ख़लीफ़ा ने अगस्त में दाना मांझी की कहानी पढ़ी थी. इसे पढ़ने के बाद वे दुखी हो गए थे और उनके दफ़्तर ने भारत स्थित बहरीन दूतावास से संपर्क कर उन्हें कुछ धनराशि दे कर मदद की थी.

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें.

शुक्रवार को 45 साल के दाना मांझी दिल्ली स्थित बहरीन दूतावास आए. वहां उन्हें 8.9 लाख रूपये का चेक भेंट किया गया.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बहरीन के प्रधानमंत्री शेख़ ख़लीफ़ा बिन सलमान अल-ख़लीफ़ा

वो और उनकी छोटी बेटी चौली चेक ले कर एयर इंडिया की उड़ान से ओड़िशा वापिस गए.

उन्होंने कहा, "मैं खुश हूं. मैं अपनी तीन बच्चियों की शिक्षा के लिए यह पैसा बैंक में रखूंगा. मुझे उम्मीद हैं कि उन्हें अच्छी शिक्षा मिले और नौकरी मिले."

24 अगस्त को दाना मांझी की पत्नी अमांग की भवानीपटना के एक अस्पताल में मौत हो गई थी, जहां वे टीबी के इलाज के लिए भर्ती थीं.

इमेज कॉपीरइट OTV
Image caption दाना मांझी

अस्पताल ने कथित तौर पर शव ले जाने के लिए एंबुलेंस मुहैया कराने से इनकार कर दिया था, जिसके बाद वे कंधे पर अपनी पत्नी का शव उठा कर पैदल ही गांव की ओर निकल पड़े थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)