'नवाज़ शरीफ़ को मुफ्त पब्लिसिटी क्यों?'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ ने संयुक्त राष्ट्र के संयुक्त राष्ट्र के अपने भाषण में कश्मीर मुद्दा प्रमुखता से उठाया

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण की सोशल मीडिया पर भी ख़ूब चर्चा हुई.

नवाज़ शरीफ़ के भाषण के बाद #NawazSharif और #TerrorStatePak हैश टैग ट्रेंड करने लगे.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने नवाज़ शरीफ़ के भाषण के बाद ट्विटर हैंडल @MEAIndia से तीन ट्वीट किए.

उन्होंने भारत प्रशासित कश्मीर के उड़ी में हुए चरमपंथी हमले को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की चुप्पी पर सवाल उठाए.

उन्होंने लिखा, "#UNGA में पाक प्रधानमंत्री शरीफ़ ने उड़ी चरमपंथी हमले को पूरी तरह नज़रअंदाज़ कर दिया. इस साल नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ के 10 प्रयासों को रोका गया. Indigenous??!! "

टीवी पत्रकार बरखा दत्त ने अपने ट्विटर हैंडल @BDUTT से किए ट्वीट में लिखा, " संयुक्त राष्ट्र महासभा में बुरहान वानी की तारीफ़ समेत नवाज़ शरीफ़ ने कश्मीर पर काफ़ी कुछ अनुमानों के मुताबिक़ ही कहा. उड़ी चरमपंथी हमले पर पूरी तरह चुप्पी साधे रखी."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ

टीवी एंकर विक्रम चंद्रा ने अपने ट्विटर हैंडल ‏@vikramchandra से किए ट्वीट में नवाज़ शरीफ़ के भाषण के एक अंश को टैग किया और लिखा, "ये कितना असाधारण है कि नवाज़ शरीफ़ ने ये सब सपाट चेहरे के साथ कहा!"

मधु किश्वर ने अपने ट्विटर हैंडल @madhukishwar के ज़रिए सवाल उठाया, "संयुक्त राष्ट्र में नवाज़ शरीफ़ के भारत विरोधी प्रलाप और 'शांति वार्ता' के दूरभाषी प्रस्ताव को भारत के टीवी चैनल मुफ़्त पब्लिसिटी क्यों दे रहे हैं. "

अभिनेता और सांसद परेश रावल के नाम पर बने पेरोडी अकाउंट @Babu_Bhaiyaa के हैंडल से किए गए ट्वीट में लिखा गया, "#UNGA में मज़ाक़िया भाषण के बाद नवाज़ शरीफ़ लोगों से पैसे मांगते देखे गए जिससे वो पाकिस्तान के लिए वापसी का टिकट ख़रीद सकें "

वहीं बहरीन में पाकिस्तान के राजदूत जावेद मलिक ने अपने अकाउंट @JavedMalik पर लिखा, "संयुक्त राष्ट्र में प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ की शानदार डिप्लोमेसी. वो एक स्टेट्समैन की तरह बोले और दुनिया ने आदर के साथ सुना."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)