'मैं पाकिस्तान जाने के लिए पासपोर्ट नहीं बनवाऊंगा'

इमेज कॉपीरइट PIB

मोहनदास करमचंद गांधी की 147वीं जन्मतिथि पर रविवार को पूरा देश उन्हें और उनके शांति के संदेश को याद कर रहा है.

भारतीय सोशल मीडिया पर गांधी जयंती और महात्मा गांधी हैशटैग ट्रेंड कर रहा है और लोग गांधी के प्रति अपनी भावनाएं लिख रहे हैं.

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सवेरे महात्मा गांधी की समाधि राजघाट पहुंच कर फूल अर्पण किए. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, "उन्होंने दुनिया को एक बेहतर जगह बनाया और हमें उन पर गर्व होना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट PIB
Image caption राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी राजघाट पहुंचे और महात्मा गांधी को याद किया.

भारत स्थित अमरीकी दूतावास ने अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की एक तस्वीर पोस्ट की जिसमें पिछले साल वे राजघाट में गांधी समाधि पर फूल अर्पित कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट U.S. Embassy India, Twitter

दूतावास ने लिखा, "ओबामा ने अपने सीनेट ऑफ़िस में गांधी की एक तस्वीर रखी हुई है."

उत्तरप्रदेश में खाट सभाएं कर रहे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शिकोहाबाद में गांधी को याद किया.

इमेज कॉपीरइट Office of RG, Twitter

उन्होंने लिखा, "आज के दिन और जीवन में हमेशा हमें बापू को याद रखना चाहिए उन्होंने हमें सच्चाई और प्रेम की राह दिखाई. वो हर कीमत पर और हर हाल में अन्याय के ख़िलाफ़ लड़े थे."

लेखक सुधींद्र कुलकर्णी ने लिखा, "महात्मा गांधी ने 2 जुलाई 1947 को कहा था कि भारत और पाकिस्तान दोनों मेरे देश हैं. मैं पाकिस्तान जाने के लिए कोई पासपोर्ट नहीं बनवाऊंगा."

वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने पूछा, "क्या युद्ध की चाहत रखने वाले टेलीविज़न एंकर और चैनल कम से कम 2 अक्टूबर को शांति की बात करेंगे?"

उन्होंने लिखा, "एक और महान भारतीय, लाल बहादुर शास्त्री को अपनी श्रद्धांजलि देना न भूलें. जिसका कद छोटा था लेकिन उनके ऊंचे विचार थे."

कई बार विवादों में फंसे पूर्व सुप्रीम कोर्ट जज मार्कण्डेय काट्जू ने एक पोस्ट में लिखा, "सही मायनों में हमारी आज़ादी के रखवाले भगत सिंह, सूर्य सेन, चंद्रशेखर आज़ाद, विस्मिल, अश्फ़ाक़ुल्लाह, खुदीराम बोस, राजगुरू... हैं जिन्हें ब्रितानियों ने फांसी दे दी थी. आज उन्हें पथभ्रष्ट कहा जाता है और उनके नाम किताबों में फुटनोट बन कर रह गए हैं. जबकि एक धोखा देने वाले व्यक्ति देश के पिता बन गए हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)