मंदिर में मासांहारी भोजन वाले लेख पर माफ़ी

इमेज कॉपीरइट Reuters

एयर इंडिया ने उस लेख के लिए माफ़ी मांगी है जिसमें कहा गया था कि पुरी के जगन्नाथ मंदिर में मांसाहारी भोजन भी परोसा जाता है.

ये लेख विमान कंपनी की इन-फ़्लाइट मैगज़ीन शुभ यात्रा में छपा था. पत्रिका की कापियां वापस ले ली गई हैं.

'शुभ-यात्रा' के लेख में कहा गया था, "पुरी के मंदिर में 500 रसोईए और 300 मदद करने वालों की सहायता से रोज़ 285 प्रकार के शाकाहारी और मासाहंरी भोजन तैयार किए जाते हैं."

लेख को लेकर सोशल मीडिया पर विवाद छिड़ गया.

पेट्रोलियम राज्य मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ट्वीट में कहा है कि उन्होंने एयर इंडिया प्रमुख अश्वनी लोहानी से बात की है और उन्होंने इस पर कार्रवाई करने के बारे में आश्वस्त किया है.

कंपनी ने सफ़ाई देते हुए लिखा, "हमें अपनी ग़लती पर खेद है. हमारा इरादा किसी की भावनाओं को आहत करना नहीं था."

कंपनी ने यह भी कहा कि वो भविष्य में इस लेखक का कोई लेख पत्रिका में नहीं छापेंगे.

एक सोशल मीडिया यूज़र अभिषेक पाटिल ने लिखा, "आपको प्रकाशित करने से पहले ठीक से देखना चाहिए."

चितरंजन साहू का कहना है, "लेखक और प्रकाशक दोनों को सज़ा मिलनी चाहिए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)