हिजाब को नकार हिना ने ईरान का दिल जीता

भारत की महिला निशानेबाज़ हिना सिद्धू के हिजाब पहनने से जुड़े क़ायदे के ख़िलाफ़ ईरान न जाने के फ़ैसले को ईरान की जनता का ख़ूब समर्थन मिल रहा है.

ईरान में सभी महिला खिलाड़ियों को हिजाब पहनना पड़ता है और हिना ने इसका विरोध करते हुए वहां होने वाली एशियन एयर गन शूटिंग प्रतियोगिता में हिस्सा न लेने का फ़ैसला किया है.

इमेज कॉपीरइट Facebook Page Heena Sidhu
Image caption भारतीय खिलाड़ी का फैसला हाथोंहाथ लिया जा रहा है

हिना के इस फ़ैसले ने ईरान की सोशल मीडिया पर हिजाब से जुड़े 'पक्षपाती क़ानून' को लेकर चर्चा शुरू करा दी है. ज़्यादातर लोग हिना के इस फ़ैसले की तारीफ़ कर रहे हैं.

इससे जुड़ी ज़्यादातर प्रतिक्रिया फेसबुक पेज माई स्टेल्थी फ्रीडम और तग़ातो पर देखने को मिल रही है.

माई स्टेल्थी फ्रीडम पेज पर पिस्टल चलाते हुए हिना की तस्वीर लगाई गई है, जिसमें उन्होंने कोई हिजाब नहीं पहना है.

साथ में भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की तस्वीर है, जिन्होंने सिर से पैर तक ख़ुद को ढंक रखा है. उनकी ये तस्वीर ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से मुलाक़ात की है.

इमेज कॉपीरइट Facebook Page Stealthy Freedom
Image caption विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की फोटो वायरल

इन पोस्टों को #CompulsoryHijabIsNOTOurCulture और #SeeYouInIranWithoutHijab जैसे हैशटैग के साथ डाला गया है.

हिना के फ़ैसले का ज़िक्र करते हुए इस पेज पर लिखा गया, ''हम हर ग़ैर-ईरानी को अपने मुल्क का दौरा करने की दावत देते हैं, लेकिन उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हर हाल में हिजाब पहनना हमारी सभ्यता नहीं, बल्कि महिलाओं के ख़िलाफ़ एक पक्षपाती क़ानून है. और सभी महिलाओं को इसके ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने का हक़ है.''

इस पोस्ट पर मोहम्मद सईदी ने लिखा है, ''सियासत बड़ी बुरी चीज़ है, ये सारी चीज़ें लील लेती है. अच्छा है कि भारत में खेलों का राजनीतिकरण नहीं किया जाता.''

इमेज कॉपीरइट Facebook Page Stealthy Freedom
Image caption हिना के लिए मांगी जा रही है दुआ

फेसबुक पर एक अन्य पोस्ट में फ़िरोज़ माहवी ने लिखा है, ''एशियाई विजेता ने हिजाब का विरोध करने के लिए निशानेबाज़ी प्रतियोगिता का बहिष्कार किया है. ख़ुदा इस लड़की पर अपनी बख़्शीश बनाए रखे. उन सभी लड़कियों को ताक़त दे, जो पिछले 37 बरस से इस थोपे गए हिजाब के ख़िलाफ़ आवाज़ उठा रही हैं.''

दूसरी ओर, हमिद्रेज़ा कंगरशाही भारतीय खिलाड़ी से इस फ़ैसले से ख़ुश नहीं दिखी. उन्होंने फेसबुक पेज माई स्टेल्थी फ्रीडम पर लिखा, ''मैं भी अनिवार्य हिजाब के ख़िलाफ़ हूं, लेकिन इस भारतीय लड़की को हमारे देश के क़ानून का सम्मान करना चाहिए.''

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)