'ग़रीब होने का आनंद- नोट नहीं, टेंशन भी नहीं'

इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार रात देश के नाम संबोधन में घोषणा की कि 500 और 1000 के नोट अब नहीं चलेंगे. पुराने नोटों को 30 दिसंबर तक बदला जा सकेगा.

प्रधानमंत्री मोदी के इस ऐलान के बाद सोशल मीडिया पर @Babu_Bhaiyaa ने लिखा- ''किसी पत्रकार या किसी सूत्र को 500 और 1000 के नोटों के फैसले के बारे में नहीं मालूम था. ये वाकई आपातकाल जैसे हालात हैं.''

फेसबुक पर जैनेंद्र कुमार लिखते हैं, ''मोदी जी हम आलसी लोगों ने आपका क्या बिगाड़ा था, जो समझ गणित के गुरुजी और पिताजी विकसित नहीं करवा पाए. उसके लिए आपने मजबूर कर दिया.''

@shadabk2426 हैंडल से शादाब खान ने लिखा, ''उन गरीबों का क्या, जिन बेचारों के लिए 2000 रुपये का सोचना भी पाप है.''

@Babu_Bhaiyaa हैंडल से लिखा गया, ''गरीब होने का आनंद आज पहली बार मिल रहा है. नोट ही नहीं तो टेंशन भी नहीं हैं.''

धनंजय गोविंद ने ट्वीटर पर लिखा, ''काले धन पर रोक लगाने के लिए 500 और 1000 के नोट बैन करने का नरेंद्र मोदी सरकार का ये बेहतरीन फैसला है.''

निशांत वर्मा ने फेसबुक पर लिखा, ''बैंक के साथ रोटी और लंगोटी बांध लें, भागो जनता आती है.''