सोशल मीडिया पर 'पैसा पैसा न रहा'

इमेज कॉपीरइट EPA

मोदी सरकार ने काले धन पर अंकुश लगाने के मक़सद से 500 और 1000 के नोट बंद करने का फ़ैसला लिया है.

मंगलवार को लिए गए इस फैसले के दो दिन बाद बैंकों के बाहर लोग पुराने नोट बदलवाने के लिए लंबी कतारों में लगे नज़र आए.

सोशल मीडिया पर भी लोग इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते रहे. ट्विटर पर #PaisaPaisaNaRaha टॉप ट्रेंड में शामिल रहा.

@Dib_Speaks हैंडल से ट्वीट किया गया, "मोदी जी ने कहा था सभी के बैंक अकाउंट में 15 लाख आएंगे, किसने सोचा था लोग खुद ही जमा करेंगे"

देविका ने ट्वीट किया, "विपक्षी पार्टियां लोगों को लंबी लाइनों में देखकर परेशान नहीं हैं, बल्कि उन्हें चिंता अपने कालेधन की है."

इमेज कॉपीरइट Tweet

@innocentlyloud हैंडल से लिखा गया है, "लोग कह रहे हैं कि 2000 का नोट भ्रष्टाचार फैलाएगा. पर इन्हें ये कौन समझाए कि 500-1000 की तरह कभी भी इसकी अर्थी उठ सकती है."

@ruchichoice हैंडल से ट्वीट किया गया है, "गांधीजी का स्टेटस अपडेट: मैं धारक को 500 और 100 रुपए देने का वचन वापस लेता हूँ, कुछ समय के लिए."

एक यूजर ने ट्वीट किया, "सच्चाई तो बस इतनी है, जिसके पास जितना काला धन, वो अब उतना ही निर्धन."

शिखर त्रिवेदी ने ट्वीट किया, "अब तक सुना था हीरा हीरे को काटता है, अब ये भी सुन लिया कि पैसा पैसे को काटता है."

@SirJadejjaa ने लिखा, "जो काला धन कमाना जानता है वो उसको भुनाना भी जानता है. परेशान तो आम आदमी हो रहे हैं."

@aartic02 हैंडल से ट्वीट किया गया, "फ़र्जी डिग्री वाले को प्रधानमंत्री चुनोगे, तो देश आठवीं की किताबों से ही चलेगा."

एक यूजर ने ट्वीट किया, "नोट चुभने लगे हैं बटुए को, पहली बार चिल्लर पर प्यार आया है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)