'असली स्टैंडअप इंडिया, हर कोई कतार में'

इमेज कॉपीरइट AP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फ़ैसले के बाद भारत में दो चीज़ें देखी गईं- एटीएम और बैंकों के सामने कतार और सोशल मीडिया पर ट्रेंड 'बैंकों में कतार, मोदी जी फरार'.

पीएम नरेंद्र मोदी की घोषणा को अब लगभग 5 दिन हो गए हैं, लेकिन न तो चर्चा थमने का नाम ले रही है और ना ही बैंकों में कतार कम हो रही है.

पांचवें दिन रविवार को भी लोग सोशल मीडिया पर एटीएम के सामने लगी भीड़ पर बात कर रहे हैं और चुटकी ले रहे हैं.

'सबसे पहले' नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "कहते हैं काला धन वालों की संख्या 0.1% है, पर 100% को सड़क पर बैठा दिया. पिछली सरकार को प्याज़़ खा गए थे इसको एटीएम खा जाएंगे."

बिश्वजीत सिंह ने लिखा, "एक भक्त जो 5 दिन से मोदी के नाम के कसीदे पढ़ रहा था, आज एटीएम मैं 8 घंटे खड़े होने के बाद जब कैश नहीं मिला, तो बड़े मासूमियत से पूछा- ये जो हमको व्हाट्सएप पर मोदी के मैसेज भेजता है, उसका घर का एड्रेस कैसे पता कर सकते हैं."

द बैड डॉक्टर नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "बैंकों और एटीएम पर इतनी लंबी लाइन है कि नंबर आने तक आदमी मोदी भक्त से लिबरल बन जाता है."

इसके जवाब में बीदेसी ने लिखा, "और नए नोट मिल जाने के बाद फिर से भक्त बन जाता है."

अपने फ़ेसबुक पन्ने पर फ़ैसल अनुराग ने लिखा, "स्टैंड अप इंडिया अब जाकर लागू हुआ है. हर कोई खड़ा है कतार में."

कवि हरजानी ने लिखा, "लोग मोदी के फ़ैसले और बैंकों में कतार की आलोचना कर रहे हैं, उनके फ़ैसले की तारीफ़ की जानी चाहिए."

इस ट्वीट के उत्तर में जेसन बोर्न नेम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "भाई ये जा के एटीएम लाइन के सामने बोल कर दिखाओ."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)