'पनामा नहीं पाजामा वाले निशाना बन रहे'

इमेज कॉपीरइट EPA

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को 500 और 1000 रुपये के नोट बंद करने के फ़ैसले का बचाव किया.

मोदी ने गोवा की एक रैली में कहा कि जनता ने उन्हें भ्रष्टाचार ख़त्म करने के लिए चुना है और वो वही कर रहे हैं.

मोदी ने लोगों से भावुक अपील करते हुए कहा, "मुझे बस पचास दिन का समय दीजिए. ये देश वैसा हो जाएगा जैसा आप चाहते थे. अगर उसके बाद मुझमें कोई ग़लती दिखे तो जो चाहिए सज़ा दें.''

मोदी ने कर्नाटक के बेलगाम में भी इस मुद्दे पर बयान दिया. उनके बयानों को लेकर विपक्ष ने तीखी प्रतिक्रिया दी तो ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी लोगों ने इसे लेकर अपनी राय रखी.

ट्विटर पर रविवार शाम से #NotMyPm हैशटैग ट्रेंड करने लगा जो सोमवार तड़के तक चलता रहा.

इमेज कॉपीरइट Twtter

अभय तिवारी ने ट्विटर हैंडल @AbhayIndia से लिखा, "पहले जेब में रखे पैसों को बेकार किया, फिर क़तार में लगाया, फिर मज़ाक़ उड़ाया, फिर धमकाया...अब तानाशाही दिखा रहे हो...कहाँ जा रहे हो?"

इमेज कॉपीरइट Twitter

पार्थ पटेल ने अपने अकाउंट @iparthpatel से ट्वीट किया, "पीएम ने उन लोगों को निशाने पर नहीं लिया जो पनामा में धन रखते हैं. उन्होंने उन लोगों को निशाना बनाया जो पाजामा में धन रखते हैं."

फ़िरोज़ आलम ने अकाउंट ‏@tweets_fa के ज़रिए सवाल उठाया है, "ग़रीब लोग 10, 20, 50 और 100 रुपये के नोट इस्तेमाल करते हैं, ये घोषणा के वक़्त प्रधानमंत्री के शब्द थे. फिर 2000 रुपये का नोट किसलिए? "

इम्तियाज़ चौधरी ‏@ImtiyazChaudhry ने बैंक और एटीएम के बाहर लगी लंबी क़तारों पर चुटकी लेते हुए लिखा, "एक भक्त 3 साल बाद कोमा से बाहर आया और बैंक में लगी लंबी लाइन देख कर बोला, ओह अभी तक 15 लाख पूरी तरह से बंटे नही??"

वहीं कई लोगों ने प्रधानमंत्री के पक्ष में भी राय ज़ाहिर की.

इमेज कॉपीरइट Twitter

एंजेल डिकॉस्टा ने अपने अकाउंट ‏@SnvVaibhav से किए ट्वीट में लिखा है, "भगवान के लिए तुम्हारे पीएम, मेरे पीएम बंद कीजिए. वो देश के प्रधानमंत्री हैं और ये बड़ा क़दम भविष्य के लिए लाभकारी रहेगा और भ्रष्टाचार को कम करेगा."

इमेज कॉपीरइट Twitter

सागर रायचंदानी ‏@sagaraichandani ने लिखा है, "नोट बदलने मे परेशानी हो रही है ना! फिर सोचो मोदी को देश बदलने मे कितनी परेशानी हो रही होगी! सोच बदलो देश बदलेगा "

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)