'मोदी से बेहतर भारत को कौन बर्बाद कर सकता है'

इमेज कॉपीरइट AFP

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा से भारत में तो अफ़रातफ़री मची है तो पाकिस्तान में सोशल मीडिया पर फ़ैसले की जमकर खिंचाई हो रही है.

भारत में पांच सौ और हज़ार के नोट बंद होने से लोगों के सामने आ रही दिक्कतों की ख़बरों के बीच पाकिस्तान में ट्विटर पर #IndiaFoodCrisis ट्रेंड करता रहा और लोग मोदी को अपने ही देश का दुश्मन बताते रहे.

#IndiaFoodCrisis हैशटैग के तहत कई ट्विटर यूज़र्स ने भारत में नोटबंदी से ग़रीब लोगों को खाने पीने के सामान ख़रीदने में आ रही कथित परेशानी का ज़िक्र किया.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट भारत में बंद करने के एक हफ़्ते के बाद भी बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी कतारें लगी हुई हैं.

विपक्षी पार्टी पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के सांसद उस्मान सैफ़ुल्लाह ख़ान ने पाकिस्तान में भी बड़े नोट बंद करने की मांग कर दी थी.

हालांकि पाकिस्तान के वित्त मंत्री मोहम्मद इशक़ दर ने ऐसे किसी कदम पर विचार से भी इनकार किया है.

ट्विटर यूज़र नईम हैदर ने लिखा है, "सीमा पर तनाव, परमाणु कार्यक्रम के फंड इकट्ठा करने के लिए विमुद्रीकरण और हथियार ख़रीदने में तेज़ी से आख़िर #IndiaFoodCrisis की स्थिति आ ही गई. "

इमेज कॉपीरइट Twitter

वहीं सादिया यूसफ़ ने लिखा है, " कोई दुश्मन मोदी से बेहतर भारत की बर्बादी नहीं कर सकता.''

शौचालय बनाने की प्रधानमंत्री मोदी की मुहिम का ज़िक्र करते हुए एक ट्विटर यूज़र असद ने लिखा है, " खाना ही नहीं होगा तो शौचालय की ज़रूरत भी नहीं. मोदी प्रतिभावान हैं. मोदी महान नेता हैं ".

कई लोगों ने नोटबंदी से प्रभावित ग़रीबों पर ट्वीट किए हैं.

अफ़िया जमील ने ट्वीट किया, "भारतीयों को थोड़ी और भूख और ग़रीबी के लिए तैयार रहना चाहिए. "

इमेज कॉपीरइट Twitter

वहीं आतिफ़ मतीन ने व्यंग किया, "मैं भारत के लिए चंदा दूंगा. उन्हें मदद की ज़रूरत है. उनकी मदद करें. ग़रीब देश और ग़रीब होने जा रहा है. "

ट्विटर पर इरम अहमद ख़ान ने लिखा है कि खाना नहीं मिल रहा लेकिन हथियार ख़रीदने हैं . @PMOIndia की ग़रीब सोच".

इमेज कॉपीरइट Twitter

वहीं पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव पर भी कई लोगों ने चुटकी ली.

अस्ना ख़ान ने ट्विटर पर लिखा, "वो पाकिस्तान से जंग के लिए तैयार हैं लेकिन भूख से क्यों नहीं लड़ सकते."

वहीं कुछ लोगों का कहना है कि नोट बंद करने से होने वाले फ़ायदे का इस्तेमाल ज़्यादा हथियार ख़रीदने में किया जाएगा.

एक ट्विटर यूज़र मारिया अख़्तर ने लिखा,"मोदी असल में हथियार ख़रीदना चाहते थे इसलिए करेंसी का ये ड्रामा किया."

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं. बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे