#100womenwiki: महिलाएं जिन्हें आपकी नज़र में विकिपीडिया पर होना चाहिए

इमेज कॉपीरइट Others
Image caption बीबीसी हिंदी ने वर्ष 2015 में #100Women सिरीज़ में 100 प्रमुख महिलाओं के बारे में आपको बताया था.

यदि आप इंटरनेट पर कुछ ढूँढ रहे हैं तो पाएंगे कि विकिपीडिया पर मौजूद मशहूर हस्तियों के प्रोफाइल में से सिर्फ़ 17 प्रतिशत ही महिलाओं के हैं. यदि आप महिला हैं, तो इस बात की आशंका 27 गुना बढ़ जाती है कि सोशल मीडिया पर लोग आपको गालियां दें.

बीबीसी हिंदी के विकि एडिट-ए-थॉन के बारे में इस फ़ेसबुक वीडियो में जानकारी दी गई है.

क्या आप इन दमदार औरतों को जानते हैं

#100Women: आधी आबादी की पूरी आवाज़

#100Women: माहवारी के दौरान छुट्टी क्यों?

#100Women: 'जिस योनि से जन्मे, उसी पर चुप्पी क्यों?'

इसलिए, यदि महिलाओं को बराबर का प्रतिनिधित्व नहीं दिया जाता है और यदि उन्हें सोशल मीडिया पर बुरा-भला कहा जाता है...तो क्या माना जाए कि इंटरनेट सेक्सिस्ट है यानी महिला विरोधी है? और अगर आप समझते हैं कि ऐसा है, तो क्या आप इस बारे में कुछ कर सकते हैं?

इमेज कॉपीरइट Kirtish Bhatt

बीबीसी एडिट-ए-थॉन

बीबीसी विशेष सिरीज़ #100Women के तहत एडिट-ए-थॉन का आयोजन कर रहा है.

इसके तहत दिल्ली समेत दुनियाभर के 13 देशों में 15 कार्यक्रम आयोजित होंगे. ये कार्यक्रम विभिन्न भाषाओं में होंगे. इसका उद्देश्य महिला संपादकों की संख्या में इजाफ़ा करना और उन महिलाओं को जोड़ना है जो पहचान पाने की हक़दार हैं. दुनियाभर में इन कार्यक्रमों में क्या हो रहा है, ये जानने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

गुरुवार को बीबीसी हिंदी भारतीय समयानुसार दोपहर दो बजे से समाज में महत्वपूर्ण योगदान देने वाली उन महिलाओं के विकि प्रोफ़ाइल अपलोड कर रहा है जिनके विकि प्रोफ़ाइल नहीं है.

बीबीसी के विनीत ख़रे ने बताया है हेतल दवे का विकिपीडिया पन्ना, जो भारत की पहली और इकलौती महिला सूमो पहलवान हैं. बीबीसी की दिव्या आर्य ने विकिपीडिया में जोड़ा है प्रियम रेडिकान का नाम, जो जानी जाती हैं अपनी 'स्पोकन वर्ड पोएट्री' के लिए.

चारू खुराना एक स्वतंत्र मेकअप आर्टिस्ट हैं जिन्होंने फ़िल्म जगत में महिलाओं के साथ भेदभाव के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई. लैंगिक समानता की उनकी मुहिम पर सुप्रीम कोर्ट ने महिला मेकअप आर्टिस्ट्स को भी पुरुषों की तरह काम दिए जाने संबंधी फ़ैसला सुनाया था. लेकिन उनका कोई विकि पेज नहीं है और बीबीसी की इस प्रक्रिया के तहत उनका नाम भी जोड़ा जाएगा.

इसी तरह मुमताज़ शेख़ ने महाराष्ट्र में सार्वजनिक जगहों पर महिलाओं के लिए शौचालय की कमी को देखते हुए 'राइट टू पी' अभियान शुरू किया. 2013 में राज्य सरकार ने शहर में प्रत्येक 20 किलोमीटर के दायरे में महिलाओं के लिए शौचालय बनाने का निर्देश दिया. महिलाओं के लिए समाज में इनका भी महत्वपूर्ण योगदान है लेकिन इनका भी कोई विकि पेज नहीं है, जो इसी एडिट-ए-थॉन में जोड़ा जाएगा.

#100Women: पूर्व माओवादी गीता की ज़िंदगी की 'नई शुरुआत...

#100Women: गेमिंग की 'मलिकाएं'

#100Women: आधी आबादी की आवाज़

एक संपादक बनकर कोई भी सीख सकता है. आप ख़ुद को या अपने दोस्त को तो इससे नहीं जोड़ सकते, लेकिन आप लाखों में से उस एक महिला को जोड़ सकते हैं, जिसे विकीपीडिया में होना चाहिए. उन्हें भी जोड़ें जो विकीपीडिया पर पहले से ही हैं और अपने अनुभव साझा कर सकती हैं. आप यहाँ पता लगा सकते हैं कि मशहूर शख्सियत कौन है:

महिलाओं की उपलब्धियों को पहचान दिलाने के लिए प्रेरित करना और किसी चीज़ का हिस्सा होना? आप ये कह पाएंगे....आज, मैंने इंटरनेट को कुछ कम महिला विरोधी बनाया है.

विकिपीडिया पर नया प्रोफ़ाइल ऐसे बनाए

हम आपके काम को लोगों को बताना चाहते हैं, इसलिए #100womenwiki का इस्तेमाल न भूलें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे