सोशल मीडिया-'जयललिता के निधन से सदमे में गईं 470 जानें'

इमेज कॉपीरइट Twitter

तमिलनाडु में एआईएडीएमके ने दावा किया है कि राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता के निधन के बाद सदमे से 470 लोगों की मौत हो गई है.

एआईएडीएमके पार्टी के ट्विटर हैंडल @AIADMKOfficial से ट्वीट में कहा है कि इन लोगों के परिवार वालों को तीन लाख रुपये की सहायता दी जाएगी.

एआईएडीएमके प्रमुख जयललिता का निधन पांच दिसंबर को चेन्नई में निधन हो गया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ पार्टी ने सदमे से मरने वाले 190 लोगों के नामों की सूची भी जारी की है जबकि कुल संख्या 470 बताई है.

इस बारे में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने स्थानीय पत्रकार इमरान क़ुरैशी को बताया कि इस बारे में कुछ भी स्पष्ट तौर पर नहीं कहा जा सकता है और फ़िलहाल पुलिस फ़ोर्स चक्रवात वरदा से लोगों को बचाने के लिए जारी तैयारियों में व्यस्त है.

एआईएडीएमके की घोषणा के बाद कई लोगों ने ट्विटर पर इस मामले पर सवाल उठाए हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

बिमल प्रसाद मोहापात्रा @bimal_pr ने लिखा है कि स्वस्थ लोकतंत्र के लिए चाटुकारिता को प्रोत्साहन देना बंद करना होगा.

वहीं@ManyuVsManyu से किए गए ट्वीट में लिखा है कि एआईएडीएमके ने किस आधार पर 470 मौतों को जयललिता के निधन से जोड़ा है?

Gummy_Bear@SriTwitErati ने ट्वीट किया है कि एआईएडीएमके लोकतंत्र का मज़ाक उड़ा रहा है. लोगों को वोट बैंक के लिए मुफ़्त में सामान देना बंद करें.

इमेज कॉपीरइट Twitter

वहीं @YiAOrg ने लिखा है कि किसान की आत्महत्याओं को तो हम समझते हैं लेकिन '470 लोगों की मौत' की कहानी 200 फ़ीसदी घोटाला है!

@Prasaddiwalkar ने लिखा है कि एआईएडीएमके को तीन लाख रुपए की मदद देकर ग़रीब लोगों को आत्महत्या करने के लिए उकसाना बंद करना चाहिए. मानसिक रूप से बीमार नेता मौत पर सांतवना बटोरना बंद करें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे