सोशल मीडिया- 'प्रधानमंत्री पर भरोसा किया, उन्होंने मन बदल लिया'

इमेज कॉपीरइट @_YogendraYadav

नोटबंदी को लेकर नए बदलते नियमों में पाँच हज़ार रुपए से अधिक बैंक में जमा करने पर स्पष्टीकरण देने के नियम से हुई परेशानी का ज़िक्र कई लोगों ने सोशल मीडिया पर किया है.

स्वराज अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने बैंक को दिए अपने स्पष्टीकरण की तस्वीर ट्विटर पर पोस्ट की है जिसे सात हज़ार से अधिक बार रीट्वीट किया जा चुका है.

नोटबंदी- समझिए 5000 रुपए वाला नियम है क्या

नोटबंदी: कैसे बदलती रहीं सरकार की घोषणाएं

नोटबंदी- मालिक, मज़दूर दोनों की रोती सूरत

इमेज कॉपीरइट EPA

योगेंद्र यादव ने इसमें लिखा है, "मैंने 8 नवंबर से अपने खाते में कोई कैश जमा नहीं किया है. मेरे पास इसके लिए कोई विशेष स्पष्टीकरण देने का कोई कारण नहीं है. मैं आमतौर पर कतारें ख़त्म होने का इंतेज़ार करता हूँ. मुझे प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री और रिज़र्व बैंक ने भरोसा दिया था कि बैंक जाने की कोई जल्दबाज़ी नहीं है और मेरे पास पैसे जमा करने के लिए तीस दिसंबर तक का समय है. मैंने उन पर भरोसा किया"

इमेज कॉपीरइट Twitter

बैंक में दिए गए ऐसे ही एक अन्य स्पष्टीकरण की तस्वीर भी शेयर की जा रही है जिसमें लिखा गया है, "क्योंकि मोदी जी ने हमसे कहा था कि हम तीस दिसंबर तक नोट जमा करा सकते हैं और आज 20 दिसंबर 2016 है, मैंने उन पर विश्वास किया."

राजेश वैद ने योगेंद्र यादव को जवाब देते हुए लिखा, "सरकार लोगों पर ईमानदारी से टैक्स देने का भरोसा भी करती है लेकिन कितने लोग इस भरोसे को तोड़ देते हैं."

सुशांत सरीन ने योगेंद्र के ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा, "जब मेरी पत्नी हमारे बच्चों को बचत और गिफ़्ट में मिले पैसे जमा करने गईं तो उन्होंने भी ऐसा ही स्पष्टीकरण दिया."

आकिफ़ ने बताया, "आईसीआईसीआई बैंक हाथ से लिखा स्पष्टीकरण स्वीकार नहीं कर रही है. क्या आप डिजीटल प्रगति देख सकते हैं."

इमेज कॉपीरइट Twitter

इस पर आईसीआईसीआई बैंक के अधिकारिक अकाउंट से जवाब दिया गया, "हमने आपकी परेशानी पर ध्यान दिया है और अपनी ब्रांच को जानकारी दी है. वो आपकी मदद करने की कोशिश करेंगे."

आदित्य पंत ने लिखा, "बैंक न तो प्रधानमंत्री जनधन योजना अकाउंट खोल रहे हैं और न ही पाँच सौ और हज़ार रुपए के नोट जमा कर रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट Ramkumar Ram facebook

सोशल मीडिया पर रामकुमार राम का फ़ेसबुक स्टेट्स भी वायरल हो रहा जिसमें उन्होंने लिखा है कि जब उन्होंने स्पष्टीकरण में लिखा कि, "मैंने प्रधानमंत्री और वित्तमंत्री के शब्दों पर भरोसा किया लेकिन उन्होंने अपना मन बदल लिया" तो बैंक मैनेजर ने उनसे कुछ और स्पष्टीकरण देने के लिए कहा. वो नहीं माने और अंत में उनका स्पष्टीकरण स्वीकार कर लिया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे