सोशल मीडिया- 'यही विश यदि आमिर या सलमान ने किया होता तो?'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पिछले साल इसी दिन पीएम मोदी ने अफ़ग़ानिस्तान से लौटते हुए लाहौर में नवाज़ शरीफ़ से मुलाक़ात की थी.

आज 25 दिसंबर को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ का जन्मदिन है. इस अवसर पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें ट्विटर पर बधाई दी है.

मोदी ने ट्वीट किया, "पाकिस्तान के प्रधानमंत्री जनाब नवाज़ शरीफ़ को जन्मदिन की शुभकामनाएं. मैं उनके लंबे और स्वस्थ जीवन की कामना करता हूं."

मोदी-नवाज़ ने की द्विपक्षीय रिश्तों पर चर्चा

'मोदी चाहते थे शरीफ़ से मिलना'

उनके ट्वीट को नवाज़ शरीफ़ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग ने रीट्वीट किया है. लेकिन भारत में सोशल मीडिया पर कई लोगों को उनका ये ट्वीट पसंद नहीं आ रहा है.

फ़िल्म आलोचक कमाल राशिद ख़ान ने लिखा, "सर, अब जब आप पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के मित्र बन गए हैं, तो भक्त अब हमें पाकिस्तान जाने के लिए नहीं कहेंगे!"

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने लिखा, "पर्याप्त तैयारी के बिना नोटबंदी लागू करने के कारण जिन 105 लोगों की मौत हुई है, उनके परिवारों के लिए सांत्वना के कुछ शब्द ज़रूर कहें. आप जानते हैं उनकी मौत कैसे हुई और क्यों?"

दीपक कौशिक नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "अब सोचो अगर ये विश किसी आमिर, शाहरुख़ या सलमान ने की होती... वो तो अब तक देशद्रोही बन चुके होते..."

यही सवाल अनुभव सिन्हा, प्रतीक, अनाम विद्रोही और कई लोग कर रहे हैं.

फेनिल सेता पूछते हैं, "क्या हो अगर करण जौहर, फवाद ख़ान को मुबारकबाद दें, क्या तब सब ठीक होगा?"

उर्वशी ने लिखा, "उन लोगों के जन्मदिन और वर्षगांठ का क्या जो कतारों में खड़े हैं? कुछ लोगों के पास तो क्रियाकर्म करने के लिए भी पैसे नहीं हैं! शर्म आनी चाहिए!"

वीरकामू ने लिखा, "अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों की दिनभर आलोचना और पाकिस्तान के पीएम के साथ मीठी बातें..."

नाम_पीके नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "आप मुहम्मद अली जिन्ना को जन्मदिन मुबारक कहना भूल गए."

मोदी के पक्ष में भी आए कई लोग

रेवाशंकर ने मोदी के ट्वीट के समर्थन में लिखा- "मोदी ने नवाज़ को मुबारकबाद प्यार के कारण थोड़े ही दी है."

कीर्ति कुमार लिखते हैं, "इसे कूटनीति कहते हैं. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नवाज़ शरीफ़ को अकेला कर दो और फिर उन्हें जन्मदिन मुबारक बोलो. कोई समस्या नहीं है."

ललित सोलंकी लिखते हैं, "इस तरह की कूटनीति से देश की इमेज दुनिया में अच्छी होती है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे