मौत के बाद फ़ेसबुक एकाउंट का क्या होगा?

ये स्टोरी है अपने मौत को प्लान करने के बारे में, जिसके बारे में हम लोग अमूमन सोचते विचारते नहीं हैं.

लेकिन इसके बारे में सोचना चाहिए. हालांकि लोग वसीयत के बारे में सोचते भी हैं, कि अपने पैसों का इस्तेमाल कैसे करना है, संपत्ति का वितरण कैसे होगा.

लेकिन वो केवल एक पहलू है, कभी आपने सोचा है कि आपकी मौत के बाद आपके फ़ेसबुक की तस्वीरों का क्या होगा.

जब हम युवा होते हैं तो हम अपनी वसीयत के बारे में नहीं सोचते क्योंकि तब पास में बहुत कुछ नहीं होता.

लेकिन अब इस तरह का चलन बढ़ रहा है जब युवावस्था से ही लोग मौत को प्लान करने लगे हैं.

ऐसे में हम आपको उन पांच चीज़ों के बारे में बताते हैं जिसको प्लान कर लेने से आपके दोस्तों और परिवार वालों के लिए चीज़ें कहीं ज़्यादा सहज होती है.

1. वसीयत बनाएं-

वसीयत एक क़ानूनी दस्तावेज़ है, जिसमें आप अपनी मृत्यु के बाद अपने पैसे और संपत्ति का उत्तराधिकारी घोषित करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

आप अपनी वसीयत ख़ुद से तैयार करते हैं लेकिन कई बार दूसरों से सलाह लेना बेहतर होता है. इसे क़ानूनी रूप देने के लिए जरूरी है कि इसके प्रत्यक्षदर्शी भी हों और ये हस्ताक्षरित होता है.

एक विकल्प ये भी है कि आप अपनी वसीयत को किसी वकील से बनवा लें. हालांकि इसके लिए आपको कुछ पैसे खर्च करने होंगे. लेकिन इससे आपका समय बचेगा और ये बेहतर विकल्प भी है.

आजकल वसीयत तैयार करने वाली कंपनियां भी हैं जो आपका वसीयत लिख सकती हैं.

अगर आपकी वसीयत नहीं होती है तो फिर क़ानून के हिसाब से आपकी संपत्ति का बंटवारा हो जाएगा, अगर आपके बच्चे हैं तो फिर आपकी संपत्ति सीधे उनके पास हस्तांरित हो जाएगी.

2. अंतिम संस्कार को भी प्लान करें-

आपका अंतिम संस्कार किस तरह से हो, ये भी आपको प्लान करना होता है. आपको ये देखना होगा कि आप किसी सुपर हीरो की तरह अपना अंतिम संस्कार चाहते हैं या इसे प्रदूषण मुक्त रखना चाहते हैं.

इस क्षेत्र में काम करने वाली संस्था चैरिटी डाइंग मैटर्स ने बीबीसी चार्टबीट को बताया, "एक अच्छी बात ये हो सकती है कि आप अपने परिवार को इस बात की आज़ादी दें कि वे आपके जीवन को सेलिब्रेट कर सकें, ना कि अंतिम संस्कार को लेकर परेशान हों."

आप अपने बर्थडे की पार्टी को बनाने के लिए काफ़ी तैयारी तो करते ही हैं, ऐसे में अपने अंतिम संस्कार को लेकर थोड़ा ध्यान क्यों नहीं दे सकते हैं.

आप अपनी इच्छा स्पष्टता के साथ ज़ाहिर कर सकते हैं कि आपका अंतिम संस्कार किस तरह से किया जाए.

3. अंगदान करें-

आप चाहें तो आपकी मौत से दूसरों को नया जीवन मिल सकता है. दूसरे कई लोगों की जान बचाई जा सकती हैं, अगर उन्हें समय से जरूरत का अंग मिल जाए.

ऐसे में आप अपनी मौत से पहले अंग दान की घोषणा कर सकते हैं, इसके लिए आप सरकारी या स्वंयसेवी संस्थाओं से पंजीयन करा सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

4. सोशल मीडिया

कभी आपने सोचा है कि आपकी मौत के बाद आपके फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर एकाउंट का क्या होगा?

हर सोशल नेटवर्क की यूजर्स की मौत के बाद अलग अलग नीतियां है. अगर फ़ेसबुक का इस्तेमाल करने वाले किसी यूजर्स की मौत होती है तो उनका एकाउंट, उनका इंटरेक्शन, इत्यादि उनके डिज़िटल फ़ुटप्रिंट या डिज़िटल लीगेसी के तौर रह जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

वहीं इंस्टाग्राम का इस बारे में कहना है, "मरे हुए लोगों का एकाउंट हम इंस्टाग्राम से हटा देते हैं, ये हमारी नीति है."

इंस्टाग्राम में लोगों की निजता को सुरक्षित रखने के लिए हम किसी को किसी एकाउंट के लॉग-इन की सूचना नहीं दी जाती.

ट्विटर अपने आप ही उस एकाउंट को डिलीट कर देता है जो छह महीने से निष्क्रिय होते हैं.

अगर आप चाहते हैं कि आपकी मौत के बाद भी ट्विटर हैंडल चलता रहा तो अपने निकटतम को अपना एकाउंट और पासवर्ड पहले ही बता दीजिए.

5. परिवार वालों से बात कीजिए

अगर आपने अपनी मौत की योजना तैयार कर ली हो तो ये बेहतर होगा कि अपने इस फ़ैसले की जानकारी अपने दोस्तों और परिवार वालों को दे दीजिए.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

हो सकता है कि अपनी संपत्ति और सोशल मीडिया एकाउंट की परवाह आपको नहीं होगी, लेकिन अगर आपको परवाह है तो उसके बारे में वसीयत भी बनाएं और दूसरों को भी बताएं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)