जब हादसे होते हैं तो क्या ट्वीट करते हैं प्रभु

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ़रवरी 2015 में रेल बजट के साथ सुरेश प्रभु

आंध्र प्रदेश के विजयनगरम में शनिवार रात हुए रेल हादसे में अब तक 30 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है और 50 से ज़्यादा घायल हैं.

रेल मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि कारणों की जांच की जाएगी. रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है.

पढ़ें- 'हीरखंड एक्सप्रेस पलट गई है, प्रभु जी मदद भेजिए'

हीराखंड एक्सप्रेस पटरी से उतरी, 23 की मौत

कानपुर के पास क्यों हो रहे हैं रेल हादसे?

भारत में अब तक हुए बड़े रेल हादसे

इमेज कॉपीरइट @sureshpprabhu

20 नवंबर को जब कानपुर के पास रेल हादसा हुआ और क़रीब 150 लोग मारे गए थे तब रेलमंत्री ने ट्वीट किया, "दुर्भाग्यपूर्ण हादसे से निपटने के लिए सभी तरह से बचाव कार्य किया जा रहा है. सभी प्रकार की चिकित्सीय और अन्य मदद भेजी गई. जांच का आदेश दिया गया. स्थिति पर क़रीबी नज़र बनाए हुए हैं."

इसके बाद रेलमंत्री ने इस हादसे से जुड़े 14 ट्वीट और किए. एक ट्वीट में उन्होंने लिखा, "ज़िम्मेदार लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी."

एक और ट्वीट में उन्होंने बताया, "मृतकों के परिजनों के लिए मुआवज़ा बढ़ाकर 3.5 लाख रुपए किया."

इमेज कॉपीरइट @sureshpprabhu

सितंबर 2016 में भुवनेश्वर-भदरक पेसेंजर रेल हादसे में दो लोगों की जान चली गई थी. इस हादसे के बाद किए ट्वीट में प्रभु ने लिखा, "भुवनेश्वर-भदरक रेल के हादसे पर तुरंत जांच घोषित की. लापरवाही पर सख़्त कार्रवाई की जाएगी."

इमेज कॉपीरइट @sureshpprabhu

सितंबर 2015 में दुरंतो एक्सप्रेस पटरी से उतर गई थी. इस हादसे के बाद किए ट्वीट में रेलमंत्री ने लिखा, "दुरंतो हादसे से दुखी हूं. जांच का आदेश दिया. तुरंत चिकित्सीय और अन्य मदद भेजी गई. चेयर रेल बोर्ड को तुरंत जाने के लिए कहा गया."

इमेज कॉपीरइट @sureshpprabhu

अगस्त 2015 में कामयानी एक्सप्रेस पटरी से उतर गई थी. इस हादसे में 25 लोगों की मौत हुई थी. इस हादसे पर प्रभु ने ट्वीट किया, "रेल प्रशासन और मध्य प्रदेश सरकार मिलकर कामयानी एक्सप्रेस हादसे से प्रभावित यात्रियों के बचाव के लिए काम कर रहे हैं. जनरल मैनेजर, डीआरएम, आरपीएफ़ और चिकित्सा कर्मियों को तुरंत जाने के लिए कहा."

इमेज कॉपीरइट @sureshpprabhu

मार्च 2015 में जब देहरादून से वाराणसी जा रही जनता एक्सप्रेस पटरी से उतर गई और 34 लोग मारे गए तब सुरेश प्रभु ने ट्वीट किया, "उत्तर प्रदेश में दुर्भाग्यपूर्ण हादसा. अपने कार्य के निर्वाहन के लिए मैं संसद में रहूंगा, रेलबोर्ड के चेरयमैन और सदस्यों को दुर्घटनास्थल पर तुरंत जाने के लिए कहा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)