क्रिकेट के अलावा भी ज़िंदगी है: युवराज सिंह

इमेज कॉपीरइट STR/AFP/Getty Images

युवराज सिंह ने कटक में इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में 150 रन बनाए. करियर के 296वें मैच में उन्होंने इस शिखर को छुआ.

इससे पहले हुए टी-ट्वेंटी मैचों में युवराज का बल्ला ज्यादा नहीं चल पाया था. टी-ट्वेंटी की तीन पारियों में वह अपने खाते में 12, 4 और 27 का स्कोर ही जोड़ पाए. हालांकि सिरीज भारत के नाम रहा.

विराट की कप्तानी में युवराज की वापसी

'युवराज का अंग्रेज़ गेंदबाज़ों के साथ हनीमून'

'पुराने नोट ले रही है बीसीसीआई'

इमेज कॉपीरइट Reuters

स्वास्थ्य और फिटनेस

विराट की कप्तानी में युवराज को टीम इंडिया में वापसी का मौका मिलने पर ये कहा गया कि बीसीसीआई पुराने नोटों को फिर चला रही है. उनके स्वास्थ्य और फिटनेस को लेकर भी कई सवाल खड़े किए गए. युवराज ने बीबीसी स्पोर्ट्स से करियर से लेकर अपनी निजी जिंदगी से जुड़े कई मसलों पर खुलकर लंबी बातचीत की.

कैंसर से रिकवरी के सवाल पर युवराज ने बताया, "यह समझना बहुत मुश्किल है कि आप महज एक साधारण आदमी हैं और आपके साथ कुछ भी हो सकता है."

युवी को क्लीन बोल्ड करने वाली हेज़ल

कड़े मुकाबले में भारत ने इंग्लैंड को हराया

भज्जी ने टीम के चयन पर उठाए सवाल!

इमेज कॉपीरइट Reuters

हाई प्रोफाइल गेम

कैंसर से जंग जीतने के बाद मैदान पर युवराज की वापसी ने कई लोगों के लिए उदाहरण पेश किया है. उन्होंने चैरिटी का काम भी शुरू किया है. लेकिन क्रिकेट का उम्र से कितना और किस हद तक रिश्ता है. इसे लेकर कई लोगों ने युवराज की क्षमताओं पर सवाल खड़े किए.

युवराज इस पर कुछ सोचते हैं, "जब आप क्रिकेट जैसा हाई प्रोफाइल गेम खेल रहे होते हैं तो अपने वजूद की तलाश करना भी उतना ही जरूरी होता है. मुझे ये समझने में थोड़ा वक्त लगा कि क्रिकेट के बाद भी एक जिंदगी होती है."

दूल्हे युवराज की भज्जी ने यूँ की खिंचाई!

'सिक्सर' मारने वाले सिर्फ़ युवराज नहीं

बूढ़े शेरों में अभी जान बाक़ी है

इमेज कॉपीरइट Reuters

बड़ा हिटर

टीम में वापसी के बाद रिकॉर्ड स्कोर के सवाल पर युवराज कहते हैं, "जब आप अतीत में ये कर चुके हों तो कोई वजह नहीं कि आप इसे फिर से न कर सकें. बेशक चीजें वैसी नहीं थी जैसी हुआ करती थीं, जब आप जवान थे. मुझे अब भी खुद को साबित करना था. इसमें उम्मीद से थोड़ा ज्यादा वक्त लगा लेकिन मैं जानता था कि नतीजा निकलेगा."

युवराज से पूछे गए सवालों में धोनी का भी जिक्र हुआ.

धोनी पर युवराज बोले, "मुझे लगता है कि कप्तानी छोड़ने के बाद धोनी ज्यादा सहज थे. वे केवल अपनी बल्लेबाजी के बारे में सोच सकते थे. कई बार ये बहुत कारगर होता है. उनके पास लंबा तजुरबा है. अगर वो आसपास हों तो यकीनन इसका दबाव रहता है. जब क्रीज के दूसरे छोर पर कोई बड़ा हिटर हो तो ये भरोसा भी होता है कि विकेट पर टिका भी रहूंगा तो रन बनते रहेंगे."

इमेज कॉपीरइट Reuters

लाइफ में बैलेंस

युवराज सिंह ने एक अंग्रेज लड़की से शादी की है. ये कैसे मुमकिन हुआ?

युवराज कहते हैं, "मैंने कभी नहीं सोचा था कि मेरी शादी किसी ब्रितानी लड़की से होगी... मैं हेज़ल को पिछले कुछ सालों से जानता हूं. वह भारत में पिछले 10 सालों से रह रही हैं. वह पूरी तरह से देसी हैं. आधी हिंदू, आधी अंग्रेज. जिंदगी में एक अच्छा दोस्त खोजना बहुत मुश्किल होता है. कभी-कभी आप अपनी दुनिया में खो जाते हैं, किक्रेट खेलते हुए खुद को साबित करने की कोशिश करते हैं और ऐसे में लाइफ में बैलेंस होना बहुत जरूरी होता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे