सोशल: 'नोबेल पुरस्कार की लिस्ट में चोर का नाम भी जुड़ा'

कैलाश इमेज कॉपीरइट AP

नोबेल शांति पुरस्कार पा चुके कैलाश सत्यार्थी के दक्षिणी दिल्ली के घर में चोरी हुई है.

चोर क़ीमती सामान के साथ नोबेल पुरस्कार की रेपल्किा भी चुरा ले गए. चोरी के वक्त कैलाश सत्यार्थी का परिवार घर पर नहीं था.

बता दें कि कैलाश सत्यार्थी ने अपना असली नोबेल पुरस्कार राष्ट्रपति भवन में दिया हुआ था. ये पुरस्कार सत्यार्थी को मलाला यूसुफज़ई के साथ साल 2014 में मिला था.

सत्यार्थी के घर चोरी की खबर सोशल मीडिया पर टॉप ट्रेंड रही. पढ़िए किसने क्या कहा?

नरेंद्र ने लिखा, ''कैलाश सत्यार्थी के घर से नोबेल पुरस्कार चोरी हो गया. चोरी होना ही था, क्योंकि अब इस दुनिया में शांति का नोबेल चोरी से ही मिल सकता है.''

इमेज कॉपीरइट facebook

विरेंद्र सिंह ने लिखा, ''एक नोबेल पुरस्कार देश के चोरों को भी मिलना चाहिए. किसी ने नहीं दिया तो सत्यार्थी जी का ही ले उड़े. आज तो पार्टी चल रही होगी वहां?''

अनिल शर्मा लिखते हैं, ''बताओ चोर तो कैलाश सत्यार्थी के यहां से ईमानदारी भी चुरा ले गए.''

इमेज कॉपीरइट facebook

हीरालाल ट्वीट करते हैं, ''चलो इसी बहाने नोबेल पुरस्कार की लिस्ट में एक नाम और जुड़ गया. नाम का खुलासा तब होगा, जब चोर पकड़ा जाएगा.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

@ModiiBHAKT हैंडल से ट्वीट किया गया, ''कैलाश सत्यार्थी को शांति का नोबेल पुरस्कार फिर से मुहैया कराया जाएगा. इस सर्टिफिकेट पर साइन करेंगे अरविंद केजरीवाल.''

‏@Babu_Bhaiyaa से लिखा गया, ''टैगोर, सीवी रमण, मदर टेरेसा, अमर्त्य सेन, कैलाश सत्यार्थी और सत्यार्थी का पुरस्कार चुराने वाला चोर. ये वो भारतीय हैं जिन्हें नोबेल पुरस्कार मिला.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

पैरोडी अकाउंट @TroluKejri से ट्वीट किया गया, ''मैं बता रहा हूं कि इस चोरी के पीछे भी मोदी जी का हाथ है.''

अरुण नायर ने लिखा, ''एक चोर को भी शांति के लिए नोबेल पुरस्कार की जरूरत है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे