सोशल: 'संघ के लोग शरिया क़ानूनों का पालन करना चाहते हैं'

इमेज कॉपीरइट PIB

भाजपा की नेता और जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने कहा है कि उन्होंने बलात्कार के आरोप में पकड़े गए युवकों को जान की भीख मांगने पर मजबूर कर दिया था.

उत्तर प्रदेश के आगरा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, "जिन पर बलात्कार का आरोप है उन्हें पीड़िता की आंखों के सामने ही सज़ा दी जानी चाहिए."

केवल चुनावी वादा है- 'गंगा को साफ़ कर देंगे'

उमा भारती के ख़िलाफ़ ग़ैर ज़मानती वारंट

उमा भारती ने कहा, "बलात्कार करने वालों को उल्टा लटकाकर उनकी चमड़ी उधड़ जाने तक पीटना चाहिए. उसके बाद जब तक वो ना चीखें तक तक उनके घावों पर नमक और मिर्च लगाना चाहिए. मांओं और बेटियों को पास से ये नज़ारा देखना चाहिए."

उनके इस बयान पर कई लोग उनकी तारीफ़ कर रहे हैं जबकि कई लोग नाराज़ है. आशीष देशपांडे ने लिखा, "उमा भारती बिल्कुल सही कहती हैं."

कमलेश वाधवा लिखते हैं, "लड़के, लड़कियों का बलात्कार करते हैं, वो बच्चियों तक को नहीं बख़्शते. बलात्कार के संबंध में कई क़ानून बने हैं लेकिन कोई फ़ायदा नहीं है. उमा भारती सौ फीसदी सही कह रही हैं."

बालाजी राजगोपालन लिखते हैं, "मैं इस तरह के सज़ा का पूरा समर्थन करता हूं."

मैं नहीं जा रही स्पेसः शावना पांड्या

सिल्वर नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "उमा भारती भाजपा के लिए एक बोझ हैं."

लोनरेंजर नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "कल किसी ने कहा था कि संघ के लोग शरिया क़ानूनों का पालन करना चाहते हैं. आज उमा भारती ने इस बात की पुष्टि की है और कहा है कि जब वो मुख्यमंत्री थीं उन्होंने इसका पालन किया.

जिस ट्वीट ने तोड़ा मोदी, सलमान का रिकॉर्ड

मनमोहन ने भी मोदी को बहुत कुछ कहा था

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)