'प्रिय सेनापति, आप बस ख़ून बहा सकते हैं'

इमेज कॉपीरइट PIB

भारत के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बुधवार को कहा था कि मुठभेड़ में दौरान रुकावट डालने वालों को चरमपंथियों का मददग़ार माना जाएगा.

बुधवार को भारत प्रशासित कश्मीर में चरमपंथियों के साथ मुठभेड़ में मारे गए सुरक्षाकर्मियों के शवों पर फूल समर्पित करने के बाद उऩ्होंने कहा, "मुठभेड़ के दौरान जो लोग सुरक्षाबलों के लिए अवरोध उत्पन्न करेंगे और उनकी मदद नहीं करेंगे उन्हें चरमपंथियों का समर्थक माना जाएगा."

उन्होंने ये भी कहा, "हम स्थानीय लोगों से उन लोगों को चिन्हित करने करे लिए कहेंगे जिन्होंने हथियार उठा लिए हैं. जो लोग चरमपंथ का समर्थन करते हुए चरमंपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट और पाकिस्तान के झंडे फहराना जारी रखेंगे तो उन्हें देशद्रोही समझा जाएगा और नहीं बख्शा जाएगा."

जवान सोशल मीडिया पर 'बोले' तो होगी सज़ा: रावत

कश्मीर : मुठभेड़ में तीन सैनिकों और एक चरमपंथी की मौत

'कश्मीर में पेलेट नहीं, शॉट गन हो रही इस्तेमाल'

जनरल बिपिन रावत के बयान पर सोशल मीडिया में काफी चर्चा हो रही है. लोग #BipinRawat और #kashmir हैशटैग के साथ लोग इस पर बात कर रहे हैं.

शेख़ वसीम गुलज़ार ने लिखा, "मैं नहीं समझ पा रहा हूं कि लोगों को मारने से अधिक कठोर और क्या हो सकता है?"

ज़ुबैर अहमद ख़ान ने लिखा, "प्रिय सेनापति आप और क्या कर सकते हैं, आप केवल ख़ून ही बहा सकते हैं. लेकिन आप अपने को शांतिप्रिय कहना पसंद करते हैं."

पाक का झंडा कश्मीर में पहली बार लहराया?

'कश्मीर के हल के लिए पाकिस्तान से बात ज़रूरी'

चिलस्वर नाम के एक ट्विट हैंडल ने उनके बयान का समर्थन किया है. इस हैंडल ने ट्वीट किया है, "हम आपका समर्थन करते हैं. आर्मी को पत्थरबाज़ों और देशद्रोहियों के खि़लाफ़ कठोरता से काम लेगा चाहिए. कोई दया न दिखाएं."

अर्पित ने ट्वीट किया "चरमपंथ का समर्थन करने वालों के ख़िलाफ़ कदम उठाने का वक्त आ गया है."

कश्मीर: हिमस्खलन में छह जवान दबे

'आप भारत की रोल मॉडल हो कश्मीर की नहीं'

सुशांत गोयल ने ट्वीट किया, "जो कश्मीरी चरपमंथियों की मदद करेंगे वो देशद्रोही कहलाएंगे. बाग़ों में बहार है.... पेलेट गन तैयार है. "

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे