सोशल: 'मोदी जी विकास से श्मशान तक पहुंच गए'

मोदी इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मोदी की टिप्पणी पर ट्विटर पर भड़के लोग

उत्तर प्रदेश में फतेहपुर की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण को लेकर ट्विटर पर तीखी प्रतिक्रिया आ रही है. मोदी ने अखिलेश सरकार पर राज्य में भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए कहा था कि सरकार क़ब्रिस्तान बनाती है तो श्मशान का भी ध्यान रखे. उन्होंने कहा कि यदि रमज़ान में बिजली दी जाती है तो दिवाली में भी बिजली दी जानी चाहिए.

मोदी के इस भाषण की ट्विटर पर जमकर आलोचना हो रही है. मोदी के भाषण के बाद ट्विटर पर #एलायंस रैटल्ड मोदी (#AllianceRattledModi) टॉप ट्रेंड करने लगा. इसी हैशटैग से हज़ारों ट्वीट हुए हैं.

रमज़ान ही नहीं, दिवाली में भी आए बिजली: मोदी

यूपी चुनाव में इसलिए दांव पर है मोदी की साख

जावेद अहमद नाम के एक ट्विटर यूज़र ने ट्वीट किया है, ''मैंने कभी नहीं सोचा था कि हमारे पीएम इस हद तक नीचे जाएंगे. वो विकास से श्मशान तक चले गए. एमपी और एमएलए के बाद अब हमारे प्रधानमंत्री हिन्दू और मुस्लिमों को बांटने का काम करने लगे हैं.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने भी मोदी को इस टिप्पणी के लिए निशाने पर लिया. लालू ने ट्वीट किया, ''देश ने ऐसा पीएम नहीं देखा जो सीने पर अपनी पार्टी का चिह्न चिपका धर्म और जाति की बात कर देशवासियों की भावनाएं भड़काने का काम करता है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

ट्विटर पर कई लोगों का कहना है कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी चुनाव हारने जा रही है इसलिए मोदी की भाषा विकास से श्मशान की ओर रुख कर गई है. महक नाम की एक ट्विटर यूजर ने लिखा है, ''कैसे मेरे नेता है, कैसी राजनीति है. बिजली का भी धर्म और जाति है.''

राहुल काजल नाम के एक यूजर ने लिखा, ''श्मशान और कब्रिस्तान का जिक्र जब शख़्स करने लगे तो समझ जाना चाहिए कि वो राजनीति के अंतिम पड़ाव पर आ गया है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

एनजी #विद आरजी नाम से एक ट्विटर यूजर ने लिखा है, ''मोदी जी शायद गोधरा ने आपको सीएम बनाया, मुजफ्फरनगर ने पीएम बनाया लेकिन अब लोग आपके ज़हर से सतर्क हो गए हैं.''

अब्दुल मनान नाम के एक शख़्स ने लिखा है कि प्रधानमंत्री हैं, कुछ तो आत्मसम्मान का ख़्याल रखिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)