सोशल: 'पुणे की एंटी नेशनल पिच को पाकिस्तान भेजो'

  • 25 फरवरी 2017
क्रिकेट इमेज कॉपीरइट AP

पुणे क्रिकेट टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 333 रनों से हरा दिया है.

पहली पारी में 105 और दूसरी पारी में 107 रन बनाकर टीम इंडिया ऑल आउट हो गई. 19 टेस्ट मैचों के बाद भारत पहली बार हारा है.

ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 260 और दूसरी में 285 रन बनाए थे. भारत की इस हार की चर्चा सोशल मीडिया पर भी हो रही है.

इमेज कॉपीरइट AP

पढ़िए किसने क्या लिखा?

@coolfunnytshirt ने लिखा, ''टीम इंडिया को पलटवार करना चाहिए. पूरी टीम को ग्रुप में आना चाहिए और एक साथ गाना चाहिए- घनन घनन घिर घिर आए बदरा.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

डॉक्टर फाइनबॉल हैंडल ने पुणे स्टेडियम के क्यूरेटर सलगांवकर पर तंज कसते हुए ट्वीट किया, ''ये आदमी 2017 के ऑस्ट्रेलियन ऑफ द ईयर के लिए है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

अनय शांडिल्य ने फ़ेसबुक पर लिखा, ''लो गुब्बारे से हवा निकल गई. कमज़ोर टीमों को हराकर नंबर वन बने थे. अब असली टीम से पाला पड़ा.''

@kyaukhaadlega हैंडल ने इस तस्वीर से टीम इंडिया की हार पर तंज किया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

एक दूसरे ट्वीट में @kyaukhaadlega ने लिखा, ''पुणे की इस एंटी नेशनल पिच को पाकिस्तान भेजने की कोई बात हुई क्या?''

ऑस्ट्रेलिया में रहने वाली एमली लिखती हैं, ''हमने इंडिया को 333 रन से हरा दिया है. मैं हैरान हूं लेकिन मुझे गर्व भी महसूस हो रहा है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

‏@bipinvegada1 ने लिखा, ''जब पिच को गड्ढे में बदल दोगे तो एक दिन उसमें गिरना ही पड़ेगा.''

आयुष कौल ने ट्वीट किया, ''ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 333 रनों से हरा दिया है. सुप्रीम कोर्ट और लोढ़ा कमेटी इस्तीफा दें.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

फ़ेसबुक पर सूरज ने लिखा, ''मैं कसम खाकर कहता हूं कि जब तक मुझे पता चला कि टेस्ट हो रहा है तब तक इंडिया 333 रनों से हार चुकी थी.''

अमित लिखते हैं, ''ट्रिपल शतकवीर बल्लेबाजों ने टीम को ट्रिपल सेंचुरी के फासले से हरवाया. घोर कलियुग.''

संतोष शाह ट्विटर पर लिखते हैं, ''एक मिनट का मौन उन लोगों के लिए, जिन्होंने पहला टेस्ट मैच चौथे दिन देखने का प्लान किया हुआ था.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

नमिता शुक्ला लिखती हैं, ''गालियां देने से पहले सोच लें. विराट कोहली भी इंसान ही हैं. बाकी तीन टेस्ट का इंतजार कीजिए. वापसी होगी.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे