सोशल मीडिया में ऑस्कर में हुई ग़लती पर जमकर चुहलबाज़ी

  • 27 फरवरी 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption फ़िल्म मूनलाइट के निर्देशक बेरी जेन्किंस

ऑस्कर अवार्ड्स की रात को बेस्ट एक्टर और एक्ट्रेस के अवॉर्ड की घोषणा के बाद जब बेस्ट फ़िल्म के नाम के लिए फ़े डनअवे और वॉरेन बीटी ने फ़िल्म 'ला ला लैंड' नाम की घोषणा की तो कई लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई.

लेकिन बस चंद मिनट बाद ही पता चला कि यह अवॉर्ड फ़िल्म 'मूनलाइट' को दिया गया है ना कि 'ला ला लैंड' को.

ऑस्कर नाम के एक ने ट्वीट किया, "अवॉर्ड देने के दौरान जिमी केमेल से गलती हुई, लेकिन ये मज़ेदार था."

ऑस्कर की गलती, 'ला ला लैंड' बन गई थी बेस्ट फ़िल्म

बिना अंग्रेज़ी जाने ऑस्कर तक पहुंचे सनी पवार

इमेज कॉपीरइट Reuters
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ग़लती से 'ला ला लैंड' फ़िल्म के नाम की घोषणा के बाद वॉरेन बेटी सही फ़िल्म 'मूनलाइट' के नाम वाले कार्ड के साथ

ऑस्कर में हुई इस ग़लती के बारे में सोशल मीडिया पर लोग बातें कर रहे हैं.

कैरी होप फ्लेचर ने लिखा, "अच्छा तो मूनलाइट को बेस्ट फ़िल्म का अवॉर्ड मिला, लेकिन उन्होंने ग़लत कार्ड पढ़ा था.... क्या ये ऑस्कर के इतिहास में पहली बार है."

डॉक ट्रोवर नाम के एक ट्विटर हैंडल ने लिखा, "ये तो मिस यूनिवर्स के जैसा ही हो गया. हमें लगा कि मिल कोलंबिया जीतीं जबकि असल में मिल फिलिपीन्स जीती थीं."

साल 2015 में स्टीव हार्वे ने मिस यूनिवर्स की विजेता के नाम की घोषणा करते समय ऐसी ही ग़लती की थी.

राशेल ने लिखा, "मुझे लगता है कि ऑस्कर में आख़िरी 5 मिनट में जो हुआ उसके लिए अगले साल ऑस्कर खुद उन्हें मिलना चाहिए. इसमें सभी फ़िल्मों को मिला दें तो इसमें ही सबसे अधिक ड्रामा है."

सेंक उइगुर ने लिखा, "वॉरेन बीटी और फ़े डनअवे ने घोषणा की है कि हिलेरी क्लिंटन चुनाव जीत गई हैं."

टिमोथी लिखते हैं, "मुझे ये दिलचस्प लगता है कि इसके लिए वॉरेन बीटी को दोष दिया जा रहा है जबकि फ़े डनअवे ने नाम की घोषणा की थी."

पॉल फीग ने लिखा, "ये सबसे मज़ेदार चीज़ है जो मैंने देखी है. मूनलाइट बढ़िया फ़िल्म है, बधाई."

भारत में बीते साल लागू की गई नोटबंदी की घोषणा से इस घटना को जोड़ते हुए ट्रोजन टॉड ने लिखा, "आह... हम 7 करोड़ लोगों ने इससे भी अधिक भयानक चीज़ 8 नवंबर को देखी थी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे