'20 साल में पहली बार डिफ़ेंसिव हुए सहवाग'

  • 1 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

गुरमेहर कौर के प्लेकार्ड को लेकर किए पोस्ट ने इतना बवाल मचा कि आख़िरकार वीरेंद्र सहवाग को इस मामले को ठंडा करने की कोशिश में आगे आना पड़ा.

दिल्ली के रामजस कॉलेज में लेफ़्ट और राइट विचारधारा वाले स्टूडेंट के बीच हुई झड़प के बाद सारा फ़ोकस गुरमेहर कौर की एक पोस्ट पर आ गया था.

'मैं ना रहूं तो भी गुरमेहर का कोई बिगाड़ नहीं पाएगा'

गुरमेहर मामला: जावेद अख़्तर ने किया सहवाग का अपमान?

लेडी श्रीराम कॉलेज में पढ़ने वाली गुरमेहर ने फ़ेसबुक पर अपनी प्रोफ़ाइल पिक्चर बदली जिसमें वो एक पोस्टर के साथ दिख रही थीं.

इस पर लिखा है, ''मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्रा हूं. मैं एबीवीपी से नहीं डरती. मैं अकेली नहीं हूं. भारत का हर छात्र मेरे साथ है. #StudentsAgainstABVP''

इमेज कॉपीरइट Facebook

लेकिन हंगामा मचा गुरमेहर की उस तस्वीर पर जिसमें वो एक प्लेकार्ड लिए खड़ी हैं. इस पर अंग्रेज़ी में लिखा है, ''पाकिस्तान ने मेरे पिता को नहीं मारा, बल्कि जंग ने मारा है.''

ये उस वीडियो का हिस्सा था जो पिछले साल सामने आया था.

काश मैं भी विरोध प्रदर्शन में होती: गुरमेहर कौर

गुरमेहर कौर के पोस्टर के पीछे जो वीडियो है, उसकी पूरी कहानी ये रही

इसके बाद पूर्व बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग ने एक प्लेकार्ड लेकर तस्वीर डाली जिस पर लिखा था, ''मैंने दो तिहरे शतक नहीं लगाए, बल्कि मेरे बल्ले ने ऐसा किया.''

सोशल मीडिया इसके बाद दो खेमों में बंटता चला गया. गुरमेहर ने आरोप लगाया कि उन्हें बलात्कार की धमकियां मिल रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

सहवाग ने अब साफ़ किया है कि उनका मक़सद विचार सामने रखने पर किसी को घेरना नहीं बल्कि एक गंभीर मुद्दे पर सेंस ऑफ़ ह्यूमर के ज़रिए अपनी बात रखना था.

बुधवार को उन्होंने एक के बाद एक ट्वीट किए जिसमें उन्होंने कहा, ''मेरा ट्वीट अपना मत ज़ाहिर करने पर किसी को बुली करना नहीं था बल्कि चुटीले अंदाज़ में अपनी बात रखना था. सहमत या असहमति कोई मुद्दा ही नहीं था.''

सहवाग ने आगे लिखा, ''उन्हें (गुरमेहर कौर) अपने विचार रखने का पूरा हक़ है और जो कोई उन्हें हिंसा या बलात्कार की धमकी देता है, वो वाकई गिरा हुआ है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

साथ ही उन्होंने गीता और बबीता फौगाट के बचाव में भी उतरे.

उन्होंने लिखा, ''सभी को बिना किसी डर और धमकी के अपनी बात रखने का अधिकार है. वो चाहें गुरमेहर कौर हों या फिर फोगाट बहनें.''

इसके बाद सहवाग के इस ट्वीट पर भी प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई.

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

कैस्पर हैंडल से लिखा गया, ''सहवाग ने वर्चस्व बनाए रखने का मौक़ा गंवा दिया. उन्हें फोगाट बहनों का नाम गुरमेहर कौर से पहले लेना चाहिए था.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

श्रीकांत ने लिखा है, ''वीरू भाई ने नहीं उनके भाई ने लिखा है.''

क्रिकबीसी हैंडल से लिखा गया है, ''दो दशक लंबे क्रिकेट करियर में सहवाग ने पहली बार फ़ॉरवर्ड डिफ़ेंस स्टांस लिया है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे