'सोशल: बस कीजिए... अब अच्छे दिन नहीं चाहिए'

  • 2 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत में गुरुवार को लोगों पर महंगाई की दोहरी मार पड़ी है. एक तरफ़ जहां बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलिंडर की कीमतें बढ़ा दी हैं, वहीं दूसरी तरफ कुछ बैंकों ने घोषणा की है कि अब एटीएम से कई बार से अधिक पैसे निकालने पर टैक्स देना होगा.

651.50 रुपए की कीमत वाले बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलिंडर की कीमत 86 रुपए बढ़ा दी गई है जिसके बाद इसका दाम अब 735.50 हो गया है. इसके लिए अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में बढ़ती कीमतों को कारण बताया गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एचडीएफ़सी, आईसीआईसीई और एक्सिस बैंक समेत कई बैंकों ने कहा है कि अब तयशुदा से अधिक बार कैश लेनदेन करने पर वो प्रत्येक ट्रांज़ैक्शन पर अधिक चार्ज लेंगे. एचडीएफसी के अनुसार 4 बार से अधिक कैश ट्रांज़ैक्शन के बाद अब वो हर ट्रांज़ैक्शन पर 150 रुपये लेगा.

सोशल मीडिया पर 'Rs 86', 'Rs 150'और 'महंगाई डायन' ट्रेंड कर रहा है और लोग इस पर बातें कर रहे हैं.

लंबोदर मिश्रा ने लिखा, "जो भी गैस सिलिंडर और बैंकों की ट्रांज़ेक्शन फ़ीस बढ़ाए जाने की आलोचना कर रहे हैं, वो देशद्रोही हैं.... यही होगी नई परिभाषा."

सुनील पंचाल ने पीएम मोदी को ट्वीट करते हुए लिखा, "विजय माल्या पैसे ले कर भाग गए और आप जनता से 150 रुपये का सर्विस टैक्स वसूल कर रहे हैं."

रोहित सैनी कहते हैं, "मतलब अपने पैसे निकालने के लिए यहाँ भी टैक्स दो."

सुधीर भारद्वाज ने तो पीएम से निवेदन किया है कि अब उन्हें अच्छे दिन नहीं चाहिए.

दिनेश सिसोदिया सवाल करते हैं, "बढ़ती बेरोजगारी ,बढ़ती महंगाई ,बढ़ती गरीबी. कोई बता दे ,कहाँ हैं अच्छे दिन?"

आनंद प्रकाश यादव ने लिखा, "पहले सबको गैस कनेक्शन फ्री,फिर सब्सिडी छोड़ने को कहा, अब हर महीने दाम बढ़ रहे है ,चाहते क्या हो ? जो सही काम करे उसी की..."

विक्स ने लिखा, "लगता है फिर से लकड़ी और कंडे से चूल्हे पे खाना बनाना पड़ेगा. धन्यवाद मोदी जी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)