सोशल: 'गजेंद्र चौहान का कार्यकाल पूरा, FTII को आज़ादी मुबारक'

गजेंद्र चौहान इमेज कॉपीरइट PIB

विवादों और छात्र आंदोलन के बावजूद भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान (FTII) चेयरमैन बने गजेंद्र चौहान का कार्यकाल पूरा हो गया है.

एफ़टीआईआई चेयरमैन के तीन साल के कार्यकाल में गजेंद्र चौहान सिर्फ 13 महीने इस पद पर रह पाए.

कार्यकाल पूरा होने पर उन्होंने एक टीवी चैनल से कहा, ''9 जून 2015 को जब मेरी नियुक्ति हुई थी तो मेरा कार्यकाल चार मार्च 2014 से गिना गया.''

कार्यकाल पूरा होने पर और क्या बोले 'धर्मराज' गजेंद्र चौहान?

  • एफटीआईआई में जो चेयरमैन की पोस्ट होती है, वो तीन साल के लिए ब्लॉक होती है.
  • कार्यकाल को उस तारीख से गिना जाता है, जिस तारीख़ पर पिछला चेयरमैन रिटायर होता है.
  • मेरी अपॉइंटमेंट 19 महीने की रही लेकिन मुझे काम करने का मौका सिर्फ़ 14 महीने का मिला.
  • मैंने 7 जनवरी 2016 को ज्वाइन किया और 3 मार्च को मेरा कार्यकाल खत्म.

गजेंद्र चौहान के कार्यकाल पूरा होने की सोशल मीडिया पर भी चर्चा है.

कहानीकार उदय प्रकाश ने फेसबुक पर लिखा, ''दोस्तों, एक ख़ुश न्यूज़ ब्रेक. गजेंद्र चौहान की सेवा समाप्त. कार्यकाल ख़त्म. तीन साल नियत था, डेढ़ साल ही भारी पड़े. अब FTTI के बाबा बटेसरनाथ (विज़डम ट्री) की छांह में ऋत्विक घटक मुस्कुरा रहे होंगे. हम भी मुस्कुरा लें!''

मिथुन प्रजापति ने लिखा, ''अच्छी ख़बर ये है कि गजेंद्र चौहान अंकल का कार्यकाल ख़त्म हुआ. FTII को आज़ादी मुबारक.''

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

वंदना ने लिखा, ''वाह सचमुच मुस्कुराने की वजह मिल गई.''

मिथलेश प्रियदर्शी ने फेसबुक पर लिखा, ''अब FTII के अगले गजेंद्र चौहान कौन हो सकते हैं? इस पद के लिए एक और आदमी अपना दावा ठोक सकता था और वो शानदार अभिनेता भी हैं पर फ़िलहाल वो देश चलाने में बिजी हैं. बेरोज़गार भी नहीं हैं.''

सत्येंद्र ने लिखा, ''गजेंद्र के जाने की ख़बर आई तो है. फिर दूसरा कोई आ जाएगा. अटल गए तो आडवाणी. आडवाणी गए तो मोदी.''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

@SoumyaB_sd ने ट्वीट किया, ''चौहान के कार्यकाल के दौरान एफ़टीआईआई में अनुशासन लौटा है. एफ़टीआईआई एक साल पहले जैसा था, आज उससे बेहतर है.''

महेंद्र सिंह ने फेसबुक पर लिखा, ''गजेंद्र चौहान गए. अब कोई साक्षी महाराज आ गए तो?''

@SimpleIndian1 ने ट्विटर पर लिखा, ''गजेंद्र चौहान को 360 डिग्री परफॉर्मेंस अप्रेजल देकर एक नया नजरिया दिया है. अपने आप को पूरे नंबर. वाह!''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे