बेंगलुरु टेस्ट में कोहली का आरोप, क्या ऑस्ट्रेलिया ने पूरे मैच में चीटिंग की?

स्टीव स्मिथ इमेज कॉपीरइट Getty Images

बेंगलुरु टेस्ट ना केवल भारतीय टीम के पिछड़ने के बाद आगे निकलकर जीत तक पहुंचने के लिए याद किया जाएगा बल्कि ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान की एक हरकत के लिए बदनाम भी रहेगा.

स्मिथ ने ऐसा क्या किया कि तमतमा गए कोहली

भारत की जीत और वो पल जहां से पलट गया मैच

उमेश यादव की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हुए स्टीव स्मिथ बॉल पैड से टकराते ही नॉन-स्ट्राइक छोर पर खड़े पीटर हैंड्सकॉम्ब के पास गए और पूछा कि क्या डीआरएस (डिसिज़न रिव्यू सिस्टम) इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

हैंड्सकॉम्ब निश्चित नहीं थे और उन्होंने इस तरह का इशारा किया है कि ड्रेसिंग रूम से पूछ लो.

जब अंपायर और कोहली भड़क गए

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस मशविरे पर स्मिथ ने तुरंत अमल किया और ड्रेसिंग रूम की तरफ़ देखकर इशारा किया. इस इशारे में सवाल छिपा था कि डीआरएस लेना चाहिए या नहीं.

लेकिन अंपायर नाइजल लॉन्ग ने उन्हें ऐसा करते हुए देख लिया और चिल्लाते हुए दोनों बल्लेबाज़ों की तरफ़ बढ़े कि वो ऐसा नहीं कर सकते.

साथ ही विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा ने भी इस पर कड़ा एतराज़ जताया. आख़िरकार स्मिथ ख़ुद को फंसता देख वहां से चले गए.

कोहली ने सुनाई खरी-खोटी

लेकिन मामला थमा नहीं. मैच जीतने के बाद भी कोहली आख़िरी कंगारू बल्लेबाज़ नाथन लियॉन से इस बारे में कुछ कहते नज़र आए. और मैच के बाद होने वाले संवाददाता सम्मेलन में भी यह मामला ख़ूब छाया रहा.

स्मिथ ने अपनी सफ़ाई में कहा कि वो ब्रेनफ़ेड (दिमाग़ काम नहीं कर रहा था) में ऐसा कर गए और उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था.

इस बारे में आईसीसी के नियम साफ़ है जिसके मुताबिक, ''अगर अंपायर को लगता है कि कप्तान या बल्लेबाज़ को मैदान में मौजूद खिलाड़ियों से अलहदा किसी और से सीधा या परोक्ष संकेत मिला है तो वो प्लेयर रिव्यू की मांग ठुकरा सकते हैं.''

पहले भी की थी गड़बड़?

ड्रेसिंग रूम के बारे में स्पष्ट लिखा है, ''ख़ास तौर से ड्रेसिंग रूम से किसी भी तरह का कोई इशारा नहीं किया जाना चाहिए.''

लेकिन इंडियन एक्सप्रेस के मु्ताबिक टीम इंडिया को शक है कि ऑस्ट्रेलियाई ड्रेसिंग रूम में से कोई मैदान के खिलाड़ियों को इशारा कर डीआरएस लेने में मदद करता है.

कोहली का आरोप है कि जब वो बल्लेबाज़ी कर रहे थे तो भी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने ऐसा कुछ करने की कोशिश की थी.

कोहली बैटिंग कर रहे थे, तब भी?

इमेज कॉपीरइट Video Grab

टीम इंडिया के कप्तान ने कहा, ''जब मैं बल्लेबाज़ी कर रहा था तो भी दो बार ऐसा हुआ था. मैंने अंपायर को बताया कि वो लोग इशारों के लिए ड्रेसिंग रूम की तरफ़ देख रहे हैं और यही वजह है कि अंपायर का ध्यान इस तरफ़ तुरंत गया.''

स्मिथ का कहना है, ''गेंद मेरे पैड पर लगी और हैंड्सकॉम्ब की तरफ़ देखा और उन्होंने कहा कि उस तरफ़ देखो. उस वक़्त दिमाग़ काम नहीं कर रहा था. मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था. मैं अपने साथियों की तरफ़ देख रहा था.''

लेकिन कोहली ने इस दलील की दरकिनार किया और बताया कि मैच के तीन दिन से यही चल रहा था.

अंपायर ने पकड़ी चोरी

इमेज कॉपीरइट Video Grab

उन्होंने कहा, ''जब वो (स्मिथ) मुड़े तो अंपायर समझ गए के वो लोग क्या करना चाह रहे हैं क्योंकि हम इस बारे में पहले शिकायत कर चुके थे. एक रेखा है जो आप लांघते नहीं है क्योंकि स्लेजिंग अलग चीज़ है. मैं वो शब्द कहना नहीं चाहता लेकिन ये उसी में आता है.''

जब उनसे पूछा गया कि क्या आप 'चीटिंग' कहना चाहते हैं तो कोहली ने जवाब दिया, ''मैंने ऐसा नहीं कहा. लेकिन आपने कह दिया.''

भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने भी इस मामले पर नाराज़गी जताई और स्मिथ की गलती के बाद ट्वीट किया, जिसमें तंज़ कसा गया था, ''ड्रेसिंग रूम रिव्यू सिस्टम...''

BCCI ने भी घेरा

इमेज कॉपीरइट Twitter

ये मामला सोशल मीडिया पर भी ख़ासी चर्चा में रहा. लोगों का कहना है कि कंगारू टीम ने 'डिसिज़न रिव्यू सिस्टम' को 'ड्रेसिंग रूम रिव्यू सिस्टम' बना दिया है.

भड़का हुआ इंजीनियर हैंडल से लिखा गया है, ''भारत ने मैच जीता लेकिन मैन ऑफ़ द मैच स्टीव स्मिथ को मिलना चाहिए जिन्होंने ड्रेसिंग रूम रिव्यू सिस्टम इजाद किया.''

और सोशल पर चुहलबाज़ी

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

डेव ने एक वाजिब मांग की. उन्होंने कहा, ''रिव्यू सिस्टम के तहत ड्रेसिंग रूम में एक कैमरा लगाया जाना चाहिए ताकि बाहर बैठे टीम के सदस्य खेल रहे खिलाड़ियों को कोई इशारा ना दे.''

ये कैमरा लगेगा या नहीं, इस बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता, लेकिन ये ज़रूर तय है कि डीआरएस लेने के वक़्त अब अंपायर खिलाड़ियों के इशारे पर ज़रूर नज़र रखेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे