सोशल: मायावती ने हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ा

मायावती इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती का कहना है कि विधानसभा चुनावों में हार उनके गले नहीं उतर रही है.

उनकी पार्टी सिर्फ़ 19 सीटों पर सिमट गई. मायावती ने चुनावों में ईवीएम के ज़रिए धोखाधड़ी के आरोप भी लगाए हैं.

इन आरोपों पर सोशल मीडिया पर ख़ूब प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

रिशांग शर्मा ने लिखा, "मायावती जी, ईवीएम मशीन से नहीं हाथी से जनता का विश्वास उठ गया है..."

'यूपी में मायावती के पास ये आख़िरी मौका था!'

मोदी और अमित शाह से बड़े इवेंट मैनेजर नहीं हैं पीके

भाजपा की जीत पर क्या बोले मुसलमान?

इमेज कॉपीरइट Reuters

पूरब सक्सेना ने लिखा, "बहनजी कह रही हैं, भाजपा को ईवीएम मैनेज करना नहीं आता है. यदि ईवीएम मैनेज करना आता तो पंजाब नहीं गंवाना पड़ता."

रामजी चौधरी ने ट्वीट किया, "चुनाव के समय किराए की भीड़ बताती थी और आज ईवीएम मशीनों में गड़बड़ की बात बहन जी कह रही हैं, कहने का तात्पर्य "हम नहीं हारे ईवीएम ने हराया."

हरजिंदर ने लिखा, "मायावती के अनुसार जो बीजेपी यूपी में ईवीएम मशीन में सेटिंग कर सकती है, वही बीजेपी पंजाब में ईवीएम मशीन सेटिंग नहीं कर सकती."

क़ाफ़िया‏ ने ट्वीट किया, "हार के सदमे ने मायावती का दिमाग ठप्प कर दिया, बिक गया है ईवीएम- ऐसा उनका कहना है!!!"

मायावती अकेली नेता नहीं हैं जिन्होंने चुनाव में हारने के बाद इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन में गड़बड़ी का आरोप लगाया है.

इससे पहले 2009 में बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी ने भी ईवीएम में गड़बड़ी का ज़िक्र किया था और बैलेट पेपर पर चुनाव दोबारा से शुरू किए जाने की बात कही थी.

हालांकि चुनाव आयोग ने उनकी इस मांग को ये कहते हुए ख़ारिज कर दिया था कि ईवीएम्स में गड़बड़ी होने की शिकायत निराधार है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)