सोशलः 'मोदी ने विकास का वादा किया, योगी दिया'

  • 19 मार्च 2017
योगी आदित्यनाथ इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/GORAKHNATH MANDIR GORAKHPUR
Image caption भाजपा ने योगी आदित्यनाथ को यूपी का मुख्यमंत्री बनाया है.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में ज़बरदस्त बहुमत हासिल करने वाली भारतीय जनता पार्टी ने गोरखपुर से सांसद योगी आदित्यनाथ को प्रदेश का मुख्यमंत्री चुना है.

योगी आदित्यनाथ की छवि एक कट्टर-हिंदुत्ववादी की है. योगी को मुख्यमंत्री बनाए जाने को लेकर सोशल मीडिया पर मिलीजुली प्रतिक्रिया है.

बहुत से लोग जहां ख़ुशी ज़ाहिर कर रहे हैं वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो #yoginotmycm (योगी मेरे मुख्यमंत्री नहीं हैं) के साथ फ़ेसबुक और ट्विटर पर लिख रहे हैं.

नज़रिया: 'हिंदुत्व की राजनीति जीत रही है'

राजनीति की धुरी रहा है योगी का गोरखनाथ मठ

इमेज कॉपीरइट facebook

दिव्यांश पांडे ने फ़ेसबुक पर लिखा, "मैंने यूपी में बीजेपी की जीत को तर्कसंगत ठहराया, समर्थन किया, प्रचारित किया और इसके पक्ष में बहस भी की. लेकिन अब योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री चुने जाने से लग रहा है कि मेरे प्रयास बेकार हो गए हैं. ये भाजपा का सबसे ख़राब फ़ैसला है. बीजेपी ने ऐसा क्यों किया, मोदी ने ऐसा क्यों किया. ये पल ज़ोरदार झटका देने वाला है."

इमेज कॉपीरइट Twitter

ड्रामा लवर के नाम से चल रहे अकाउंट (@dramalover4er) से ट्वीट किया गया, "विकास के नाम पर चुनाव लड़ो और फिर सांप्रदायिक लोगों के हाथ में प्रशासन दे दो."

प्रीतम चांडक (@drpritamchandak) ने लिखा, "दिल्ली में सबका साथ सबका विकास का नारा, लखनऊ में जय श्रीराम का शोर. योगी आदित्यनाथ यूपी के मुख्यमंत्री पद के लिए अविश्वसनीय पसंद हैं."

योगी तो साढ़े 3 बजे ही बन गए थे यूपी के सीएम!

'बहुत कठिन होगी डगर योगी सरकार की'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लड़े गए चुनाव में भाजपा ने ज़बरदस्त बहुमत हासिल किया है.

मानवीर सिंह मिन्हास @MaanvirMinhas ने ट्वीट किया, "मोदी ने यूपी के विकास का वादा किया और योगी दिया."

दीप तोमर (@deeptomar) ने लिखा, "हमने विकास के लिए मतदान किया था सांप्रदायिकता के लिए नहीं. हमने उम्मीद को चुना था मायूसी को नहीं. हमने मोदी को वोट दिया था योगी को नहीं."

आशुतोष राय ने नरेंद्र मोदी को टैग करते हुए ट्वीट किया, "सर, यूपी के बहुमत से बहुत खुशी मिली थी लेकिन योगी को मुख्यमंत्री बनाना इसके बिलकुल उलट है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मोहित शर्मा ने फ़ेसबुक पर लिखा, "ये भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की सबसे बड़ी गलती है. मुझे महसूस हो रहा है कि योगी आदित्यनाथ राज्य और केंद्र में भाजपा की सरकारों को नुकसान पहुंचाएंगे. मैं भाजपा का समर्थक हूं और पहली बार भाजपा ने मुझे निराश किया है. चुनाव जीतने के बाद बहुमत को हारने का ये कैसा तरीका है? मोदी जैसे संत के नेतृत्व वाली पार्टी से ऐसी उम्मीद नहीं थी. ये फैसला यूपी और भाजपा के इतिहास में लिखा जाएगा. यूपी में भाजपा को जब भी बहुमत मिलता है वो कुछ ऐसा कर देती है कि अगले पंद्रह सालों के लिए सत्ता से बाहर हो जाती है. ऐसा ही एक फ़ैसला आज लिया गया है. योगी मेरे मुख्यमंत्री नहीं हैं."

'यूपी का इलाज बस योगी'

सोशल मीडिया पर एक बड़ा तबका ऐसा भी है जो योगी के मुख्यमंत्री बनने से बेहद ख़ुश है.

रश्मि चतुर्वेदी ने फ़ेसबुक पर लिखा, "बधाई हो. मैं बहुत प्रसन्न हूँ. अब मुझे पूरी उम्मीद है क़ि 2019 के पहले राम मंदिर बनने से कोई शक्ति रोक नही सकती. आख़िर हिंदू अस्मिता का सबसे बड़ा प्रतीक राम मंदिर ही है. अगर वो नही बना तो किसी भी संघर्ष का क्या लाभ?"

इमेज कॉपीरइट Twitter

संन्यासी राजपूत ने लिखा, "हर घर भगवा छाएगा, हरा हरियाली दर्शाएगा. योगी के राज में यूपी जुर्म मुक्त हो जाएगा."

दिनेश मनकथला ने ट्विटर पर लिखा, "उत्तर प्रदेश रोगी था, उसका इलाज बस योगी था. अब जल्दी ही प्रदेश स्वस्थ हो जायेगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)