'बेब...क्या हम दोस्त बन सकते हैं'

इंटरनेट

इंटरनेट सचमुच एक जादुई दुनिया है. यहां आप बहुत कुछ सीख सकते हैं तो बहक भी सकते हैं.

हाल ही में हुए एक शोध से पता चलता है कि आधे से ज़्यादा महिलाओं को ऑनलाइन प्रताड़ना और उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है.

इनमें से 76 फ़ीसदी महिलाएं 30 साल से कम उम्र की हैं. हमने इस मामले में 8 महिलाओं से बात की और उन्होंने अपना अनुभव साझा किया. आप भी पढ़िए कि इन महिलाओं ने क्या कहा.

आपको अचानक से एक फ्रेंड रिक्वेस्ट आती है. इन संदिग्ध अजनबियों की प्रोफाइल तस्वीर भी अजीब होती है. ये कीबोर्ड पर बैठे रहते हैं. ये आख़िर कौन लोग हैं? ये फ़ेसबुक पर दोस्ती के लिए क्या प्रलोभन देते हैं?

भजन गाने वाली मुस्लिम महिला ट्रोलिंग का शिकार

गुरमेहर मामले से बीजेपी को फ़ायदा या नुकसान?

''मैं आपको अच्छी तरह से जानना चाहता हूं. ऐसा हमलोग दोस्त बनकर कर सकते हैं. बेब.''

''आप एक दिन बेहतरीन पत्नी बनेंगी.''

''मैं सिंगल पुरुष हूं और मेरी उम्र 50 है.''

इस तरह का प्रलोभन देनेवाला बिल्कुल अजनबी होता है. हमलोग बड़ी मुश्किल से इसे बर्दाश्त करते हैं.

हंसने के लिए मुझे मत लटकाओ: रणदीप हुड्डा

सोशल मीडिया हथियार भी, सिरदर्द भी

डेटिंग ऐप्स को जितना मज़ेदार होना चाहिए उससे काफी कम हैं. एक महिला ने कहा कि ये बिल्कुल अजीब हैं.

ख़ासकर महिलाओं के रंग को लेकर बात समझ से परे है. लोग यहां सोचते हैं- यहां काली महिला को काबू में करने के बिल्कुल माकूल मौका है.

एक और ने कहा, ''जवाब नहीं देने पर कुछ लोग तो पागल हो जाते हैं. यह वैसा ही है कि आप सड़क पर हों और कोई आदमी चिल्ला रहा हो 'हे बेबी'. आपने रिप्लाई नहीं किया और वह गाली देने लगे. इंटरनेट पर भी कुछ ऐसा ही होता है.''

नहीं, हमलोग तुम्हारे लिंग की तस्वीर नहीं देखना चाहते. यदि आप नौ मिनट से ज़्यादा समय तक ऑनलाइन रहती हैं तो आपको पता है कि अश्लील तस्वीरें कभी भी दस्तक दे सकती हैं.

एक महिला ने कहा कि अपनी गतिविधियों को लेकर ख़ुद ही सतर्क रहना चाहिए. ऐसी चीज़ों को स्पैम में तक रोकने की ज़रूरत है.

ऑनलाइन ट्रोल करने वालों को सुषमा का जवाब

'मुझे ट्रोल करने के लिए व्हॉट्स एप ग्रुप बनाया'

इमेज कॉपीरइट Giphy

यदि आप किसी पोस्ट या आर्टिकल पर कॉमेंट करते हैं तो लोग टूट पड़ते हैं.

एक महिला ने कहा कि आप यह नहीं समझ पाएंगी की आप बात क्या कर रही हैं. ट्विटर पर जोक शेयर करने पर उसकी लोग व्याख्या करते हैं.

ट्रोलिंग एक कड़वा सच

आठों महिलाओं ने बताया कि कैसे-कैसे मेसेज आते हैं.

एक मेसेज आया, ''ऐसिड टब में कूद जाओ.'' एक ने भेजा, ''उम्मीद है कि तुम मर गई होगी.''

एक महिला ने कहा कि कुछ ऐसा है जिस पर हम हमेशा हंसते हैं, लेकिन यह सच में डरावना है.

2016: ब्रेक अप और ट्रोलिंग का साल

'शायर राहुल गांधी' की शायरी में ट्रोलिंग

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग पर दिल्ली की नाज़िया ने खुलकर बात रखी.

इंटरनेट पर महिलाओं के लिए ऑनलाइन बदतमीजी आम बात है.

हालांकि यहां केवल ख़राब लोग ही नहीं हैं बल्कि दुनिया भर में इंटरनेट से हज़ारों रिश्ते भी बने हैं और बन रहे हैं. इसने लोगों को आवाज़ दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)